इंदौर में दो युवाओं ने खोजा कपड़ों का फॉर्मूला, जो मक्खी और मच्छरों को रखेगा दूर

Smart News Team, Last updated: 15/10/2020 06:06 PM IST
  • इंदौर में हाल ही में दो युवाओं ने मिलकर एक ऐसे फॉर्मूले का आविष्कार किया है, जो लोगों को मच्छर, मक्खियों और चींटियों की समस्या से छुटकारा दिलवाएगा. उनके इस फॉर्मूले के अब अब लोगों को इस्तेमाल एंटी रिपेंलेंट की आवश्यकता नहीं होगी.
एक ऐसे फॉर्मूले का आविष्कार जो लोगों को मच्छर, मक्खियों और चींटियों की समस्या से दिलवाएगा छुटकारा

 इंदौर: मध्यप्रदेश के इंदौर में हाल ही में दो युवाओं ने मिलकर एक ऐसे फॉर्मूले का आविष्कार किया है, जो लोगों को मच्छर, मक्खियों और चींटियों की समस्या से छुटकारा दिलवाएगा. दरअसल, इस नायाब कपड़े का आविष्कार युवा उद्यमी श्रेष्ठा और मयूर मालपानी ने किया है. दोनों ने मिलकर 2017 में 'क्लोदिंग इनोवेशन' नाम से कंपनी शुरू की थी, इनकी फैक्ट्री ने कपड़ों के विशेष ट्रीटमेंट के लिए जो 'आर्मर टेक्नोलॉजी' इस्तेमाल की जाती है, उसका पेटेंट कराने के लिए आवेदन किया हुआ है. वहीं, युवाओं का दावा है कि उनके द्वारा आविष्कार किए गए फॉर्मूले से बनाए कपड़े 50 धुलाई तक काम करते हैं, जो मक्खी और मच्छरों से लोगों का बचाव करेगा.

इंदौर: बुधवार को शहर में कोरोना के 372 मामले आए सामने, 3 की मौत

वहीं, मयूर मालपानी ने उम्मीद जताई कि उनकी इस खोज की बदौलत पारंपरिक रिपेलेंट्स यानी मच्छर दूर रखने वाले क्रीम या स्प्रे की जरूरत नहीं रह जाएगी. बता दें, 'क्लोदिंग इनोवेशन' नाम का उनका स्टार्टअप सिल्क और वेलवेट के अतिरिक्त अन्य तमाम तरह के कपड़ों के विशेष ट्रीटमेंट उपलब्‍ध कराता है. श्रेष्ठा और मयूर का यह स्टार्टअप बच्चों और युवाओं के लिए इंसेक्ट रिपेलेंट (कीट दूर भगाने वाले), एंटी माइक्रोबियल और एंटी बैक्टीरियल कपड़े भी बेचता है.

मालपानी ने बताया कि फिलहाल कंपनी का सालाना टर्नओवर तीन करोड़ रुपये तक पहुंच गया है. सालाना दस प्रतिशत से अधिक की बढ़ोतरी भी हो रही है. सितंबर 2019 से कंपनी ने अमेरिका को निर्यात भी शुरू कर दिया है. यह उनकी सफलता को साबित कर रहा है. मालपानी के मुताबिक, उनका स्टार्टअप अब 'एंटीवायरल टेक्नोलॉजी' पर काम कर रहा है और कारोबार विस्तार के लिए फंड जुटाने की कोशिश में है.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें