इंदौर में गाँव वालों ने मंत्री का रास्ता रोका , वजह जानकर हो जाएँगे हैरान

Smart News Team, Last updated: Thu, 5th Aug 2021, 1:45 PM IST
  • कोविड-19 के दौर में इंदौर की अलग अलग तहसीलो में जाकर लोगो के हाल जानने के लिए प्रशासनिक अधिकारियों के साथ इंदौर के प्रभारी मंत्री तुलसी सिलावट पहुँच रहे है. इसी क्रम में वे ढाबली गाँव पहुँच कर हैरान रह गए.
प्रतिकात्मक तस्वीर

इंदौर. सोमवार को मंत्री तुलसी सिलावट अपनी विधानसभा सांवेर के ढाबली गांव पहुँचे. जहाँ न सिर्फ मंत्री तुलसी सिलावट को गांव की सीमा में ग्रामीणों ने प्रवेश देने से इंकार कर दिया बल्कि जिला प्रशासन के अधिकारियों को भी. हालांकि आप ये जानकर हैरान रह जाएंगे कि गाँव वालों ने ऐसा क्यों किया. यहां ग्रामीण कोरोना काल मे न तो मंत्री तुलसी सिलावट से नाराज थे और ना ही प्रशासन के खिलाफ उनका कोई आक्रोश था.

आखिरकार ग्रामीणों ने ढाबली गाँव में बैरिकेड्स लगाकर गाँव में घुसने के रास्ते क्यों बन्द किए आइए हम आपको बताते है. दरअसल, ग्राम ढाबली के लोगों ने कोरोना से बचने के लिए एक अनूठा प्रयोग किया है जिसके तहत गांव में घुसने वाली सीमाओं को बैरिकेड्स लगाकर सील कर दिया है. वहीं दूसरी ओर ऐसे बैनर लगाए जिसमे ये संदेश लिखा है कि लोग मास्क लगाने के साथ ही अन्य नियमों का पालन करे. दरअसल, लोगो की मंशा ये है कि जानलेवा वायरस को काबू में लाने के लिए न तो गांव से किसी को बाहर जाने दिया जाएगा और ना ही किसी को अंदर आने दिया जाएगा ताकि लोग महफूज रह सके. ये ही वजह है कि लोगो ने गांव की सीमा पर ही मंत्री तुलसी सिलावट और प्रशासन के अधिकारियो से बात कर अपनी कुशलक्षेम बताई.

इधर, मंत्री तुलसी सिलावट ने गांववासियो के प्रयास की सरहाना करते हुए कहा कि मुझे गांव के बाहर ही रोकने के बावजूद मैं ग्रामीणों का स्वागत करता हूँ क्योंकि कोरोना संकट के बीच ग्रामीण बेहतर तरीके से जनता कर्फ्यू का पालन कर रहे है. उन्होंने बताया कि इंदौर के इस मॉडल को अब प्रदेशभर के ग्रामीण अंचलों में लागू करने के लिए वो प्रयास करेंगे ताकि कोरोना से लड़ा जा सके.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें