इंदौर में यास तूफान का असर, तेज हवाओं के साथ आंधी-तूफान और बारिश

Smart News Team, Last updated: Fri, 28th May 2021, 2:15 PM IST
  • देश के कई हिस्सों में तबाही मचा चुके यास तूफान का असर इंदौर में भी देखने को मिला. शाम होते-होते 60 किलोमीटर की रफ्तार से अचानक तेज हवाएं चलने लगीं . वही कई स्थानों पर टेंट और तंबू भी पलट गए .
इंदौर में यास तूफ़ान का असर देखने को मिला .

इंदौर. यास तूफान कितना खतरनाक है इसका हल्का अनुभव गुरुवार शाम को इंदौर के लोगों को हो गया. दरअसल, अचानक शाम में धीमी हवा की शुरुआत हुई, 1 से डेढ़ घण्टे के बीच हवा इतनी तेज रफ्तार से चलने लगी लोग हक्के-बक्के रह गए. लिहाजा, लोगो ने खुद को घर मे महफूज रखना ही बेहतर समझा.

 

चक्रवाती तूफान यास का असर मध्यप्रदेश के इंदौर में जैसे ही दिखने लगा वैसे शहर के अधिकतर इलाको की बिजली गुल हो गई. चक्रवाती तूफान हवा के साथ कचरे को लेकर गोल रूप में नजर आया. लोगों का कहना है कि हमने ऐसी हवा और आंधी कम ही देखी है. हवा और आंधी का असर इंदौर के चारों तरफ नजर आया, कई जगह लगे बोर्ड उखड़कर गिरे . वहीं नगर निगम ने जो पुलिसकर्मियों के लिए टेंट लगाए थे वे भी उखड़ गए.


इंदौर में कोरोना के बाद ब्रेन फॉग का मामला आया सामने, जानें क्या है लक्षण

इधर कल बड़ी तादाद में पेड़ गिरे और उससे ज्यादा बड़ी तादाद में पेड़ों की डालें टूटकर गिरीं और उससे अव्यवस्थाएं फैली. इधर, नेहरू स्टेडियम में नगर निगम के द्वारा कोरोना के संक्रमण के दौर में नागरिकों की कोरोना वायरस की जांच कराने के लिए ड्राइव इन टेस्ट की व्यवस्था की गई थी.


खाने गए थे शादी की दावत, पुलिस को पता चला तो हो गई कार्रवाई, जानें क्यों

 इस व्यवस्था के अनुसार व्यक्ति अपनी गाड़ी में बैठे बैठे अपनी जांच करवा रहा था लेकिन 60 किलोमीटर प्रति घण्टे की रफ्तार से चली हवा ने अस्थायी व्यवस्था को ढाहने में कोई कसर नही छोड़ी. हालांकि डेढ़ से दो घण्टे तक चली तेज हवाओं का दौर उस समय थमा जब बारिश शुरू होने लगी. इसके बाद शहर के कई इलाकों में झमाझम बारिश का असर भी देखा गया.

 

फिलहाल, गुरुवार शाम को हवा चलने के बाद हुई बारिश ने नवतपा को एक बार फिर गला दिया और मान्यता ये है कि यदि रोहिणी नक्षत्र में बारिश होती है तो उस साल कम बारिश होती है. हालांकि ये मान्यताएं पिछले कुछ सालों में बदल भी गई है क्योंकि कई दफा ऐसा हुआ लेकिन बारिश जोरदार रही.


आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें