जयपुर की 20 सीएचसी को बनाया जाएगा कोविड केयर सेंटर, घर-घर होगी सर्वे और टेस्टिंग

Smart News Team, Last updated: Sun, 16th May 2021, 10:41 AM IST
  • जयपुर में कोरोना संक्रमण की रोकथाम के लिए स्पेशल प्लानिंग बनाई जा रही है. अब शहर के साथ ही ग्रामीण इलाकों पर विशेष फोकस किया जाएगा.
प्रतिकात्मक तस्वीर 

जयपुर. सीएम अशोक गहलोत की ओर से जयपुर में कोरोना के बढ़ते आंकड़ों पर रोक लगाने के लिए विशेष प्लानिंग के निर्देश दिए गए थे. इसके बाद अब जयपुर के लिए स्पेशल प्लानिंग बन चुकी है. जयपुर के कोविड अस्पतालों में दबाव कम करने के लिए 20 सीएचसी को मेडिकल कोरोना उपचार की सुविधाएं उपलब्ध कराकर कोविड केयर सेंटर बनाए जाने के निर्देश चिकित्सा मंत्री डॉक्टर रघु शर्मा ने दिए हैं. इन सभी सेंटरों में पर्याप्त मात्रा में ऑक्सीजन सिलेंडर, ऑक्सीजन कंसंट्रेटर, रेमडेसिविर जैसी दवाओं के साथ ही चिकित्सक और मेडिकल स्टाफ की पूरी व्यवस्था की जाएगी. इससे आसपास के क्षेत्र के मरीजों को जब स्थानीय स्तर पर चिकित्सकीय सुविधाएं मिलने लगेंगी तो उनका रूख बड़े अस्पतालों की ओर कम हो जाएगा और राजधानी के अस्पतालों में दबाव भी कम हो सकेगा.

 

चिकित्सा मंत्री डॉ. रघु शर्मा ने अधिकारियों के साथ वर्चुअल बैठक में कहा कि जिले में फैल रहे कोरोना संक्रमण की रोकथाम के लिए संपूर्ण क्षेत्र में घर-घर जाकर टेस्टिंग की जाएगी और ट्रीटमेंट पर विशेष ध्यान दिया जाएगा. उन्होंने कहा कि विशेषकर ग्रामीण क्षेत्रों में चिकित्सा विभाग की मोबाइल वैन के जरिए व्यापक स्तर पर एंटीजन और आरटीपीसीआर टेस्ट करवाए जाएंगे ताकि पॉजीटिव मरीजों को चिन्हित कर उनका तुरंत उपचार शुरू किया जा सके.

जयपुर: आरयूएचएस अस्पताल से एसीबी ने कालाबाजारी करते हुए दो संविदाकर्मी को पकड़ा

डॉ. शर्मा ने कहा कि प्रदेश में कोरोना पॉजिटिव मरीजों की सर्वाधिक संख्या जयपुर में है. उन्होंने कहा कि गांवों में संक्रमण को कम करने के लिए चिकित्सा एवं स्वास्थ्य विभाग की मोबाइल ओपीडी वैन के जरिए एंटीजन व आरटीपीसीआर टेस्ट किए जाएंगे. यह वैन प्रत्येक विधानसभा क्षेत्र में प्रतिदिन दस गांवों में घूमेगी. इसके जरिए अधिक संक्रमण वाले इलाकों में एंटीजन टेस्ट किए जाएंगे. एंटीजन टेस्ट में पॉजीटिव आने वाले रोगियों को तुरंत उपचार या भर्ती करने की कार्यवाही शुरू की जाएगी और जिनका टेस्ट इसमें नेगिटिव आया है उनका आरटीपीसीआर टेस्ट कर सैम्पल लिया जाएगा.

चिकित्सा राज्य मंत्री डॉ. सुभाष गर्ग ने लॉकडाउन में और अधिक सख्ती करने का भी सुझाव दिया. उन्होंने कहा कि जयपुर जिले में सैंपलिंग की संख्या बढ़ाकर भी संक्रमण पर काबू पाया जा सकता है. स्वास्थ्य मंत्री ने बैठक के दौरान जयपुर में ऑक्सीजन सिलेंडर, ऑक्सीजन कंस्टंटेटर, वेंटीलेटर्स, ऑक्सीजनयुक्त बेड की मांग और उपलब्धता पर भी संबंधित अधिकारियों से विस्तार से चर्चा की. उन्होंने ऑक्सीजन जनरेशन व लिक्विड ऑक्सीजन प्लांट, ब्लैक फंगस, तीसरी लहर में विभाग की तैयारी सहित संबंधित कई अन्य विषयों की समीक्षा की.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें