कैप्टन के बाद राजस्थान के कप्तान गहलोत की बारी, राहुल और पायलट की बैठक के बाद अटकलें तेज

SHOAIB RANA, Last updated: Tue, 21st Sep 2021, 9:59 PM IST
  • कांग्रेस शासित पंजाब के कैप्टन अमरिंदर सिंह के मुख्यमंत्री पद से इस्तीफे के बाद अब राजस्थान की अशोक गहलोत सरकार को लेकर सियासी अटकलें तेज हो गई हैं. इस बीच राहुल गांधी और सचिन पायलट की मीटिंग होने की खबर अटकलों को और ज्यादा तूल दे रही है.
फोटो में राहुल गांधी, सचिन पायलट, कैप्टन अमरिंदर सिंह और अशोक गहलोत

जयपुर. कांग्रेस शासित पंजाब के पूर्व सीएम कैप्टन अमरिंदर सिंह के अचानक इस्तीफे ने देश की राजनीति में उथल-पुथल मचा दी. अमरिंदर पिछले कुछ दिनों से पार्टी में कुछ नेताओं से खुश नहीं थी. इसी बीच नवजोत सिंह सिद्धू को कांग्रेस का प्रदेश अध्यक्ष बनाना, आग में और तेल का काम कर गया. आग की लपट इतनी ऊंजी उठी कि कैप्टन ने पंजाब की कांग्रेस सरकार में चल रही कप्तानी पारी पर विराम लगा दिया. अब पंजाब की यही लपट कांग्रेस शासित राजस्थान में पहुंच रही है जहां के कैप्टन यानी मुख्यमंत्री अशोक गहलोत और पार्टी के युवा चेहरे और पूर्व डिप्टी सीएम सचिन पायलट की अनबन ठीक होती नहीं नजर आ रही है. इस बीच हाल ही में हुई राहुल गांधी की सचिन पायलट से मैराथन मीटिंग अटकलों को और ज्यादा तूल दे रही है. हालांकि, सूत्रों का कहना है कि दोनों नेताओं की साल 2024 लोकसभा चुनाव को लेकर पार्टी के लक्ष्यों पर भी चर्चा हुई है.

यूं तो राजस्थान कांग्रेस में कलह को लेकर पहले ही अटकलें चल रही हैं लेकिन इस बार राहुल और सचिन की मुलाकात में एक संयोग रहा. वह संयोग था जिस दिन पंजाब के कैप्टन ने मुख्यमंत्री पद से इस्तीफा दिया, उससे एक दिन पहले ही कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी और सचिन पायलट की यह बैठक हुई. इस साल राहुल और सचिन के होने वाली यह पहली बैठक थी.

मॉब लिंचिंग: राजस्थान में भीड़ ने दलित युवक को पीट-पीट कर मार डाला, BJP ने गहलोत सरकार को घेरा

हालांकि, राजस्थान कांग्रेस के एक दिग्गज ने नाम न बताने की शर्त पर कहा कि अभी फिलहाल गहलोत सरकार पर संकट बादल छाने की किसी भी तरह की कोई उम्मीद नहीं है. अगले साल 2022 में उत्तर प्रदेश, उत्तराखंड और पंजाब में चुनाव होने हैं और ऐसे में पार्टी इस समय सिर्फ इन्हीं राज्यों की चुनावी तैयारियों पर फोकस कर रही है.

अब चरणजीत सिंह चन्नी पंजाब के नए कैप्टन

कैप्टन अमरिंदर सिंह के इस्तीफे के बाद अगले मुख्यमंत्री को लेकर सुनिल जाखड़, अंबिका सोनी से लेकर कई नाम सामने आए. सब फैसले के बाद चरणजीत सिंह चन्नी पर विधायक दल ने अपनी मुहर लगाई. चरणजीत सिंह चन्नी पंजाब के पहले दलित मुख्यमंत्री बने हैं. हालांकि, चन्नी के सीएम बनने से कई नेता नाराज भी बताए जा रहे हैं जिनमें पूर्व प्रदेश अध्यक्ष सुनील जाखड़ का नाम भी शामिल है.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें