राजस्थान सरकार ने आतिशबाजी पर लगाई रोक, बीजेपी का आरोप- हिन्दू विरोधी

Smart News Team, Last updated: Wed, 4th Nov 2020, 9:56 AM IST
  • राजस्थान की अशोक गहलोत सरकार ने दीवाली के मद्देनजर कोरोना मरीजों को ध्यान में रखते हुए प्रदेश में 31 दिसम्बर तक के लिए पटाखों और आतिशबाजी पर रोक लगा दी है. ऐसे में विपक्ष सरकार पर हिन्दू विरोधी होने का आरोप लगाया और इस फैसले को व्यापारी विरोधी बताया.
राजस्थान सरकार ने आतिशबाजी पर लगाई रोक, बीजेपी का आरोप- हिन्दू विरोधी

जयपुर: राजस्थान सरकार ने पटाखों और आतिशबाजी पर बैन लगा दिया है. प्रदेश में बढ़ते कोरोना संक्रमण और प्रदूषण के कारण सरकार ने ये फैसला लिया है. इसके साथ ही आदेश की अवहेलना करने पर 2 हजार रुपए फाइन देना पड़ेगा. सरकार के इस  फैसले के साथ ही सूबे में सियासत तेज हो गई है. 

जानकारी के मुताबिक राजस्थान की अशोक गहलोत की सरकार ने प्रदेश में दीवाली और अन्य त्योहारों को ध्यान में रखते हुए 31 दिसम्बर 2020 तक के लिए किसी भी तरह के पटाखों और आतिशबाजी पर रोक लगा दी है. जिसके बाद बीजेपी नेताओं की बयानबाजी भी तेज हो गई. बीजेपी नेताओं ने आरोप लगाया कि अगर सरकार को आतिशबाजी से प्रदूषण दिखाई देता है तो उन्हें बकरीद पर होने वाली बलि पर भी रोक लगानी चाहिए. भाजपा नेताओं ने इसे हिंदू धर्म के खिलाफ निर्णय करार दिया है. 

नगर निगम के नतीजे घोषित, कांग्रेस-BJP के हिस्से 2-2 सीटें, 2 पर किसी को बहुमत नहीं

इस फैसले को भाजपा नेताओं ने व्यापरियों के खिलाफ बताया. भाजपा नेता वासुदेव देवनानी ने प्रदेश सरकार पर आरोप लगाते हुए कहा कि नगर निगम चुनाव में लाभ के चलते सरकार ने पहले व्यापारियों को आगाह नहीं किया था, लिहाजा अब प्रतिबंध लगाने से व्यापारियों का बड़ा नुकसान हुआ है. सरकारी आदेश के मुताबिक अगर कोई व्यापारी पटाखों की खरीद फरोख्त करता है तो उस पर 10 हजार रुपए हर्जाना लगेगा वहीं अगर कोई व्यक्ति आतिशबाजी में संलिप्त पाया जाता है तो उसे 2 हजार रुपए फाइन देने होंगे.

 

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें