जयपुर में सियासी संकट को लेकर 3 सदस्यीय कमेटी ने दिल्ली के कांग्रेस वार रूम में

Smart News Team, Last updated: 26/08/2020 03:04 PM IST
  • जयपुर में कांग्रेस मुख्यमंत्री गहलोत और सचिन पायलट खेमे में पिछले दिनों हुए सिसायी घमासान के बाद कांग्रेस आलाकमान की गठित तीन सदस्यीय कमेटी की पहली बैठक दिल्ली स्थित कांग्रेस वार रूम में हुई.बैठक में अहमद पटेल, संगठन महासचिव केसी वेणुगोपाल और राजस्थान प्रभारी अजय माकन मौजूद रहे.
अशोक गहलोत साथ सचिन पायलट

जयपुर में पिछले दिनों चले राजस्थान कांग्रेस में मुख्यमंत्री अशोक गहलोत व सचिन पायलट खेमे के बीच चल रही खींचतान को खत्म करने के लिए बनाई गई तीन सदस्यीय कमेटी की पहली बैठक दिल्ली स्थित कांग्रेस वार रूम में हुई. कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी के निर्देश पर गठित तीन सदस्यीय कमेटी जिसमें अहमद पटेल, केसी वेणुगोपाल और अजय माकन मौजूद रहे.

कांग्रेस आलाकमान ने कमेटी को निर्देश दिए थे कि राजस्थान कांग्रेस के विवाद को जल्द से जल्द सुलझा लिया जाए. इसी को देखते हुए कमेटी ने अपनी पहली औपचारिक बैठक की. कमेटी की कोशिश है कि जल्द ही दोनों खेमों के बीच संतुलन बना दिया जाए. अब कल अजय माकन राजस्थान के दौरे पर आएंगे और विधायकों से मिलकर उनका फीडबैक लेंगे.

प्रदेश में एक महीने से ज्यादा समय तक चला सियासी उठापटक शांत अब फिलहाल शांत हाे चुका है. सरकार ने विधानसभा में अपना बहुमत साबित कर लिया. अब उसे काम करना है. लेकिन मंत्रिमंडल के पोर्टफोलियो में अभी 10 सीटें खाली हैं.

जानकारों की मानें तो 32 दिनों तक चली बाड़ाबंदी में सीएम अशोक गहलोत इसकी सारी एक्सरसाइज कर चुके हैं. प्रदेश के नए प्रभारी अजय माकन इन 32 दिनों तक बाड़ाबंदी में गहलोत व अन्य विधायकों के साथ ही रहे हैं.

सूत्रों का कहना है जब तक रिशफलिंग टाली जा सकती है तब तक टाली जाएगी क्योंकि सरकार को अभी इसमें कोई फायदा नजर नहीं आ रहा.

पायलट के समर्थकों को मंत्रिमंडल और संगठन में शामिल करना भी सरकार की सियासी मजबूरी होगी. पायलट गुट की ओर से आने वाले दिनाें में केंद्रीय नेतृत्व पर दबाव बनाया जा सकता हैं, जिससे उनके गुट के विधायकाें काे कैबिनेट में शामिल किया जाए.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें