राजस्थान के सियासी संग्राम में माकन का दखल, जयपुर सम्भाग के नेताओं की ली बैठक

Smart News Team, Last updated: 11/09/2020 03:02 PM IST
  • राजस्थान में कांग्रेस के सियासी घमाशान के बाद प्रभारी अजय माकन की मैराथन बैठकों का दौर चल रहा है. अजमेर के बाद जयपुर सम्भाग के नेताओं ने बैठक में काम काज नहीं होने की सरकार की जमकर शिकायतें की.
अजय माकन

जय़पुर में प्रदेश कांग्रेस मुख्यालय पर जयपुर संभाग का प्रभारी अजय माकन ने फीडबैक बैठकें ली. जयपुर शहर, देहात अलवर, झुंझूनू व दौसा के विधायकों, पूर्व विधायकों व पीसीसी सदस्यों का फीडबैक लिया गया. हर जिले से करीब 50 लोगों को फीडबैक के लिए बुलाया गया.

फीडबैक बैठक खत्म होने के बाद प्रदेश प्रभारी अजय माकन ने प्रेस कांफ्रेंस की और कहा कि 2 अक्टूबर को सरकार जन घोषणा पत्र की उपलब्धियों का रिपोर्ट कार्ड पेश करेगी. माकन ने कहा कि ये संवाद कार्यक्रम दो तरफा है एक तो सरकार की परफॉर्मेंस और दूसरा लीडर्स का फीडबैक.

कांग्रेस प्रदेशाध्यक्ष गोविंद सिंह डोटासरा ने कहा कि बैठक में सबके सुझाव लिए गए है. अब प्रभारी मंत्री जिलों में जाकर जनसुनवाई करेंगे. उन्होंने कहा कि यह सुझाव भी दिया गया है कि ब्लॉक कांग्रेस कमेटियों की बैठकों में जिलाध्यक्ष व विधायक भी भाग लें. उन्होंने कहा कि बिजली कंपनियों की वीसीआर का मुद्दा भी आया है, कांग्रेस सरकार चाहती किसान को और रियायत मिलनी चाहिए.

पायलट गुट के चाकसू विधायक वेद प्रकाश सोलंकी ने सरकार के खिलाफ खुलकर नाराजगी दिखाई. सौलंकी ने कहा कि विधायकों का डिजायर सिस्टम बंद कर देना चाहिए. उन्होंने कहा कि विधायकों की सिफारिश पर काम होने से नहीं बल्कि नीचे के पदाधिकारियों की डिजायर पर भी काम होने चाहिए.

जयपुर: कोरोना से हुई 14 मौतों के बाद काँपा राजस्थान, 1640 मिले नए संक्रमित मरीज

वहीं यूथ कांग्रेस के पूर्व प्रदेश अध्यक्ष सुमित भगासरा ने एनएसयूआई और युवा कांग्रेस कार्यकर्ताओं पर बीजेपी सरकार में दर्ज पुलिस मुकदमे वापस लेने की मांग की.भगासरा ने यूथ कांग्रेस चुनावों की अनियमितताओं का मुद्दा भी उठाया. इस पर कांग्रेस प्रदेशाध्यक्ष डोटासरा ने कहा, हाईकमान ने ही कार्यकारिणी भंग की थी, हाईकमान इस पर फैसला करेगा.

 

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें