जयपुर : भ्रष्टाचार निरोधक ब्यूरो ने अपने ही अधिकारी को घूस लेते रंगे हाथ पकड़ा

Smart News Team, Last updated: 09/12/2020 10:24 PM IST
  • राजस्थान में एसीबी की टीम ने अपने ही विभाग के एक एडिशनल एसपी और डीटीओ को 80 हजार रुपए की रिश्वत लेते हुए रंगे हाथ दबोच लिया. एसीबी की टीम पिछले डेढ़ महीने से दोनों के फोन को सर्विलांस पर लेकर निगरानी रखे हुए थी. पिछले 7 दिन से एसीबी की टीम की नजर दोनों अधिकारियों पर थी.
भ्रष्टाचार निरोधक ब्यूरो के गिरफ्त में घूस लेते पकड़े गए अधिकारी

जयपुर. राजस्थान में भ्रष्ट अधिकारियों पर एसीबी (भ्रष्टाचार निरोधक ब्यूरो) की कार्रवाई लगातार जारी है. एसीबी की टीम ऐसे भ्रष्टाचारियों पर अपनी नजर गड़ाए हुए है. एक के बाद एक भ्रष्ट अधिकारी इनके हत्थे चढ़ रहे हैं. एक बार फिर एसीबी की टीम ने अपने ही विभाग के एक एडिशनल एसपी भेरूलाल मीणा और डीटीओ महेश चंद शर्मा को 80 हजार रुपए की रिश्वत लेते हुए रंगे हाथ दबोच लिया. एसीबी की टीम ने यह कार्रवाई सवाई माधोपुर में की. 

एसीबी के डीजी बीएल सोनी के मुताबिक, भेरूलाल मीणा 80 हजार की रिश्वत मासिक बंधी के रूप में ले रहा था. एसीबी की टीम पिछले डेढ़ महीने से भेरूलाल मीणा और डीटीओ महेश चंद शर्मा के फोन को सर्विलांस पर लेकर निगरानी रखे हुए थी. इसी को लेकर पिछले 7 दिन से एसीबी की टीम की नजर दोनों अधिकारियों पर थी. ऐसे में योजनाबद्ध तरीके से जैसे ही एडिशनल एसपी भेरूलाल मीणा ने डीटीओ महेश चंद शर्मा को 80 हजार रुपए की रिश्वत लेते हुए अपने ऑफिस में बुलाया, ठीक वैसे ही मुख्यालय से गई एसीबी की दूसरी टीम ने दोनों ही अधिकारियों को रिश्वत की रकम के साथ रंगे हाथ दबोच लिया. पूछताछ में सामने आया है कि रिश्वत का खेल लंबे समय से चल रहा था. 

राजस्थान में 5 श्रेणियों में भू-जल दोहन के लिए अब एनओसी की जरूरत नहीं

इतना ही नहीं, पड़ताल में सामने आया है एडिशनल एसपी भेरूलाल मीणा ने परिवहन विभाग के अधिकारियों पर एसीबी की ओर से होने वाली कार्रवाई की जिम्मेदारी लेता था. अगर कोई भी कार्रवाई होती तो उसकी सूचना खुद भेरूलाल मीणा डीटीओ महेश चंद शर्मा और उसके साथियों को दे देता था. बहरहाल, एसीबी ने अपनी इस कार्रवाई के बाद भेरूलाल मीणा के ठिकानों और घर के साथ ही डीटीओ महेश चंद के घर पर भी छापा मारा.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें