जयपुर में कोविड मरीज के डिस्चार्ज होने पर अटेंडेंट का भी होगा आरटीपीसीआर टेस्ट

Smart News Team, Last updated: Wed, 12th May 2021, 2:22 PM IST
  • जिला कलक्टर ने अस्पताल में रहने वाले कोविड मरीज के अटेंडेंट का भी आरटीपीसीआर टेस्ट कराने के निर्देश दिए हैं. मरीज के डिस्चार्ज होने पर अटेंडेंट का भी आरटीपीसीआर टेस्ट होगा .
प्रतिकात्मक तस्वीर

जयपुर. अस्पताल में कोविड मरीज के साथ उनके परिवार के लोग या रिश्तेदार में से एक समय पर किसी एक को अटेंडेंट के रूप में रखा जा सकेगा. इस अटेंडेंट को सभी निर्धारित सुरक्षा उपाय रखने होंगे. साथ ही अस्पताल की ओर से उसे दवाई का किट भी उपलब्ध कराया जाएगा. अटेंडेंट का पूरा नाम, पता, मोबाइल नंबर भी लिया जाएगा. इतना ही नहीं संक्रमित मरीज के डिस्चार्ज होने पर अटेंडेंट का भी आरटीपीसीआर टेस्ट कराया जाएगा. इस संबंध में जयपुर जिला कलेक्टर अंतर सिंह नेहरा ने चिकित्सा अधिकारियों की बैठक में निर्देश दिए. उन्होंने कहा कि जिले में शहरी एवं ग्रामीण क्षेत्र में कोविड संक्रमित एवं आईएलआई, एसएआरआई रोगियों का पता लगाने के लिए एएनएम, आशा सहयोगी एवं बीएलओ के माध्यम से किया जा रहा डोर टू डोर सर्वे कार्य जरूरी है. इस कार्य को समय पर पूरा करने के लिए टीम की संख्या बढ़ाई जाए. एक चरण पूरा होने के बाद दूसरा चरण भी तुरंत शुरू किया जाना चाहिए.

कोविड 19 का उपचार एवं रेफरल सेवाएं उपलब्ध कराने के लिए प्रत्येक उपखण्ड में खोले गए कोविड कन्सल्टेशन एण्ड केयर सेंटर पर एक बैनर लगाकर इसकी सूचना दी जाएगी. वहां पर पर्याप्त संख्या में चिकित्सक, नर्सिंग एवं मेडिकल स्टाफ लगाए जाएंगे. सामान्य ओपीडी एवं आईपीडी के अलावा कोविड मरीजों के लिए अलग से ओपीडी की सुविधा रखने के निर्देश दिए गए हैं. साथ ही कुल उपलब्ध बेड क्षमता के 50 प्रतिशत का अलग से वार्ड बनाकर कोविड मरीजों को आईपीडी सुविधा भी दी जाएगी. इन सेंटर्स के पास स्थित समाज कल्याण विभाग के छात्रावास एवं विभगा द्वारा निर्मित धर्मशालाओं को भी कोविड केयर सेंटर के रूप में काम लिया जाएगा. कोविड के संदिग्ध मरीज, आईएलआई, एसएआरआई के मरीज आने पर उनकी कोविड जांच कराई जाए एवं जांच का परिणाम आने तक आवश्यक दवा दते हुए होम या कोविड केयर सेंटर पर आइसोलेट करने के निर्देश भी दिए गए हैं. आवश्यक होने पर उसकी मेडिकल स्थिति के अनुरूप डेडिकेटेड कोविड केयर सेंटर, डेडीकेटेड कोविड हैल्थ सेंटर या डेडिकेटेड कोविड हॉस्पिटल के लिए फरल वाहन में रेफर किया जाएगा.

गुजरात से आज जयपुर के कनकपुरा आएगी ऑक्सीजन स्पेशल ट्रेन

जिला कलक्टर ने चिकित्सा अधिकारियों को निर्देश दिए कि जिले में सभी कोरोना संक्रमण के हॉट स्पॉट, प्रभावित क्षेत्र तथा गामीण क्षेत्र में कोविड के अलावा अन्य बीमारियों जैसे किडनी हाईपरटेंशन, डायबिटीज, खांसी जुकाम, बुखार आदि के मरीजों तथा गर्भवती महिलाओं को उनके निवास के नजदीक मोबाइल ओपीडी चिकित्सा सुविधा उपलब्ध कराने के लिए मोबाइल मेडिकल यूनिट, वैन या बेस एम्बूलेंस चलाएं. इसमें समुचित चिकित्सा अधिकारी, नर्सिंग, पैरा मैडिकल स्टाफ एवं जिला चिकित्सालय स्तरीय औषधियां एवं प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र स्तरीय जांच सुविधा उपलब्ध कराई जाए.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें