बाढ़ की संभावित स्थिति से निपटने के लिए रखें सभी तैयारियां: गहलोत

Smart News Team, Last updated: 18/08/2020 01:13 PM IST
  • सीएम अशोक गहलोत ने सभी जिला कलेक्टर्स को राहत एवं बचाव कार्यों के लिए तैयारी रखने को कहा है. राज्य आपदा प्रबंधन प्राधिकरण की 22वीं बैठक में प्रदेश में मानसून की वर्तमान स्थिति एवं बाढ़ नियंत्रण के लिए की गई तैयारियों की समीक्षा करते हुए निर्देश दिए.
अशोक गहलोत

जयपुर: मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने कहा कि प्रदेश में मानसून को देखते हुए अत्यधिक वर्षा एवं बाढ़ की स्थिति से निपटने के लिए सभी तैयारियां रखी जाएं. उन्होंने जयपुर, कोटा एवं अजमेर में विशेष एहतियात बरतने के निर्देश दिए तथा सभी जिला कलेक्टर्स को राहत एवं बचाव कार्यों के लिए तैयारी रखने को कहा.

सीएम ने मुख्यमंत्री निवास पर आयोजित राज्य आपदा प्रबंधन प्राधिकरण की 22वीं बैठक में प्रदेश में मानसून की वर्तमान स्थिति एवं बाढ़ नियंत्रण के लिए की गई तैयारियों की समीक्षा करते हुए कई महत्वपूर्ण निर्देश दिए. गहलोत ने आन्ध्र प्रदेश की तर्ज पर कैचमेन्ट एरिया में छोटे-छोटे बांध बनाने की संभावनाएं तलाशने के निर्देश दिए.

3 जिलों में एनडीआरएफ व 20 जिलों में एसडीआरएफ की तैनाती

बैठक में अधिकारियों ने बताया कि जयपुर शहर में जिस प्रकार जलभराव की स्थिति हुई थी, वैसी प्रदेश में टोंक को छोड़कर अन्य शहरों में नहीं है. बाढ़ एवं आपदा की स्थिति से निपटने के लिए जयपुर में केन्द्रीय बाढ़ नियंत्रण कक्ष तथा प्रदेश के सभी जिलों में भी बाढ़ नियंत्रण कक्ष स्थापित किए गए हैं. बाढ़ प्रबंधन के लिए सभी जिलों में फ्लड कंटीन्जेन्सी प्लान बनाया गया है. जयपुर, कोटा एवं अजमेर में एनडीआरएफ की तैनाती की गई है. प्रदेश के 20 जिलों में एसडीआरएफ तथा सभी जिलों में नागरिक सुरक्षा बचाव दलों की तैनाती की गई है. जिला कलेक्टर्स को आवश्यकतानुसार नागरिक सुरक्षा स्वयं सेवकों की अतिरिक्त तैनाती करने के लिए अधिकृत किया गया है. सेना से भी समन्वय स्थापित किया जा रहा है. आपदा प्रबंधन सचिव ने बताया कि मौसम विभाग से प्राप्त चेतावनी एवं सूचना सभी जिला कलेक्टर्स को नियमित रूप से भेजी जा रही है. बाढ़ बचाव एवं राहत कार्यों के लिए जिलों को उनकी मांग के अनुसार राशि का आवंटन किया जा रहा है.

एसडीआरएफ से विभिन्न विभागों एवं जिलों को आवंटित राशि का अनुमोदन

बैठक में कोरोना महामारी के रोकथाम एवं बचाव के लिए आपदा प्रबंधन अधिनियम के तहत 15 मार्च के बाद लगातार जारी किए गए विभिन्न आदेशों का कार्योत्तर अनुमोदन भी किया गया. कोविड-19 की रोकथाम एवं बचाव के लिए एसडीआरएफ से विभिन्न विभागों एवं जिलों को आवंटित राशि 386.85 करोड़ रूपए का अनुमोदन भी किया.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें