राजस्थान में लव जिहाद के खिलाफ कानून की मांग को लेकर सीएम गहलोत को लिखा पत्र

Smart News Team, Last updated: 12/12/2020 12:14 PM IST
  • राजस्थान के भाजपा युवा मोर्चा ने पत्र में लिखा कि राजस्थान में लव जिहाद के खिलाफ एक सख्त कानून की जरूरत है. प्रदेश की बहन-बेटियों को सुरक्षा देने के लिए मुख्यमंत्री को इस ओर जल्द से जल्द ध्यान देना चाहिए और डिग्गी, टोंक मामले में हस्तक्षेप कर जल्द से जल्द निष्पक्ष जांच के आदेश करने चाहिए.
सांकेतिक फोटो

जयपुर. राजस्थान के भाजपा युवा मोर्चा के प्रदेश अध्यक्ष हिमांशु शर्मा का कहना है कि राज्य में लव जिहाद के मामले लगातार बढ़ रहे हैं. राजस्थान की बहनें व बेटियां इसका शिकार हो रही हैं. पहले धर्म परिवर्तन के लिए प्रेम, उसके बाद साजिशन विवाह और फिर धर्म परिवर्तन का दबाव, ऐसे कई गंभीर मामले हर महीने सामने आ रहे हैं. 

हाल ही में डिग्गी, टोंक में सामने आए एक ऐसे ही मामले में एक गिरोह के द्वारा नाबालिक लड़कियों को गलत जानकारी देकर, गलत तरीके से संपर्क बनाकर, उसकी नग्न फोटो लेकर, उसे ब्लैकमेल करने का मामला सामने आया है. उस गिरोह द्वारा लड़कियों को धर्म परिवर्तन के लिए दबाव बनाया जाता था. इस तरह के मामलों पर सरकार और कानून के रवैए से नाराज होकर मुख्यमंत्री अशोक गहलोत को भाजयुमो की ओर से पत्र लिखा गया है. पत्र में लिखा कि नग्न फोटो लेकर धर्म परिवर्तन के लिए दबाव बनाना, अपने आप में एक गंभीर मामला है. इस तरह के मामलों को जड़ से खत्म करने के लिए राजस्थान में लव जिहाद के खिलाफ एक सख्त कानून की जरूरत है. प्रदेश की बहन-बेटियों को सुरक्षा देने के लिए मुख्यमंत्री को इस ओर जल्द से जल्द ध्यान देना चाहिए और डिग्गी, टोंक मामले में हस्तक्षेप कर जल्द से जल्द निष्पक्ष जांच के आदेश करने चाहिए.

कोटा की घटना पर वसुंधरा राजे ने कहा- मां की उजड़ती कोख को हल्के में न लें

बता दें लव जिहाद को लेकर यूपी सरकार की ओर से कानून बनाए जाने पर मुख्यमंत्री अशोक गहलोत की प्रतिक्रिया सामने आई थी. गहलोत ने पिछ्ले दिनों एक ट्वीट कर यूपी सरकार के इस निर्णय को असंवैधानिक बताया था. ट्वीट में लिखा कि लव जिहाद बीजेपी की ओर से देश को बांटने और सांप्रदायिक सद्भाव को बिगाड़ने के लिए गढ़ा गया एक शब्द है. सीएम ने लिखा है कि विवाह व्यक्तिगत स्वतंत्रता का मामला है, इस पर अंकुश लगाने के लिए एक कानून लाना पूरी तरीके से हमें असंवैधानिक है.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें