बीजेपी ने चुनाव परिणाम से पहले ही की प्रत्याशियों की बाड़ाबंदी

Smart News Team, Last updated: 03/11/2020 03:31 PM IST
  • राजस्थान के जयपुर में पिछली बार मेयर उपचुनाव में हुई भीतरघात को देखते हुए बीजेपी इस बार मजबूत रणनीति बनाई है. कांग्रेस किसी भी प्रकार से सेंधमारी नहीं कर सके, इसके लिए बीजेपी ने चुनाव परिणाम से पहले ही सभी प्रत्याशियों को एक जगह कर लिया है.
नगर निगम के चुनाव को लेकर मचा घमासान

जयपुर: राजस्थान में एक बार फिर नगर निगम के चुनाव को लेकर घमासान मचा हुआ है. भाजपा ने पार्षद चुनाव के नतीजे आने से पहले ही अपने सभी प्रत्याशियों की बाड़ेबंदी कर दी है. बीजेपी ने जयपुर में हेरिटेज नगर निगम और ग्रेटर नगर निगम के सभी प्रत्याशियों की बाड़ेबंदी कर दी है. राजस्थान के जयपुर में पिछली बार मेयर उपचुनाव में हुई भीतरघात को देखते हुए बीजेपी इस बार मजबूत रणनीति बनाई है. कांग्रेस किसी भी प्रकार से सेंधमारी नहीं कर सके, इसके लिए बीजेपी ने चुनाव परिणाम से पहले ही सभी प्रत्याशियों को एक जगह कर लिया है. 

चुनाव परिणाम के बाद भी मेयर चुनाव तक सभी जीते हुए प्रत्याशियों को एक जगह रखा जाएगा. भाजपा मुख्यालय के पास स्थित बीजेपी हेरिटेज नगर निगम चुनाव कार्यालय पर सभी प्रत्याशियों को बुलाया गया. यहां पर प्रत्याशियों को तीन बसों में बैठाकर जयपुर में स्थित होटल चोमू पैलेस में भेजा गया. हालांकि बीजेपी इस बाड़ेबंदी को प्रशिक्षण शिविर का नाम दे रही है. भाजपा के जयपुर शहर अध्यक्ष राघव शर्मा के मुताबिक कार्यकर्ता जितना प्रशिक्षित होगा, उतना ही विचारधारा के प्रति समर्पित होगा. इसलिए चुनाव परिणाम से पहले प्रशिक्षण दिया गया.

राजस्थान में कल से खुलेगा हाईकोर्ट, नियमित रूप से होगी सुनवाई

 ऐसे में जयपुर शहर अध्यक्ष राघव शर्मा ने कहा कि प्रशिक्षण देना पार्टी की रूटीन प्रक्रिया है. बीजेपी का दावा है कि जयपुर शहर के दोनों नगर निगम ग्रेटर और हेरिटेज में बीजेपी का बोर्ड बनेगा. हालांकि बीजेपी का बोर्ड बनने और पार्षद चुनाव के रिजल्ट आने से पहले ही बीजेपी में मेयर को लेकर दावेदार प्रत्याशी अपनी अपनी उम्मीदवारी जता रहे हैं. बीजेपी में मेयर के लिए प्रत्याशी शीला धाबाई और सौम्या गुर्जर को दावेदार माना जा रहा है. बहरहाल जयपुर शहर के दोनों नगर निगम हेरिटेज और ग्रेटर में चुनाव परिणाम आने के बाद ही मेयर दावेदारों की तस्वीर साफ हो पाएगी.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें