जयपुर : चुनाव से पहले ही पिछड़ी भाजपा, 395 वार्ड में प्रत्याशी ही नहीं उतार पाई

Smart News Team, Last updated: Sun, 17th Jan 2021, 2:34 PM IST
  • भाजपा ने 90 निकायों के लिए होने वाले चुनाव को लेकर 14 जनवरी को टिकट तय किए थे, जबकि 15 जनवरी नामांकन का आखिरी दिन था. ऐसे में कई वार्डों में वह उम्मीदवार नहीं चुन पाई. देखा जाए तो मतदान से पहले ही भाजपा एक कदम पीछे नजर आ रही है. हालांकि भाजपा प्रदेशाध्यक्ष ने इसे रणनीति का हिस्सा बताया है.
सांकेतिक फोटो

जयपुर. निकाय चुनाव में भाजपा जीत का दावा कर रही है, लेकिन प्रत्याशी चयन में देरी की वजह से पार्टी 395 वार्डों में प्रत्याशी ही नहीं उतार पाई. भाजपा प्रदेशाध्यक्ष सतीश पूनिया ने इसे रणनीति का हिस्सा बताया है. पार्टी ने सभी निकायों पर 14 जनवरी को टिकट तय किए थे, जबकि 15 जनवरी नामांकन का आखिरी दिन था. ऐसे में मतदान और मतगणना से पहले ही भाजपा एक कदम पीछे नजर आ रही है. 

भाजपा मुख्यालय पर पूनिया ने प्रेस वार्ता में बताया कि पार्टी ने 2637 वार्डों में अपने प्रत्याशी उतारे हैं. पार्टी ने रणनीति के तहत 395 वार्डों में प्रत्याशी नहीं खड़े किए हैं. प्रदेश के 20 जिलों के 90 नगरीय निकायों में पार्षद पद के लिए कई जगह ऐसे अभ्यर्थियों ने बागी होकर नामांकन दाखिल किया है जो पार्टियों से सिंबल लेना चाहते थे, लेकिन उन्हें सिंबल नहीं मिल पाया. कई स्थानों पर विधायकों की भी नहीं चली और पार्टी स्तर पर ही कार्यकर्ता को सिंबल देने से स्थानीय स्तर पर विरोधस्वरूप भी नामांकन भरे गए हैं. ऐसे में अभी मान मनोवल का दौर जारी है. चुनावी तस्वीर 19 जनवरी को नामांकन वापसी के बाद की स्थिति आने पर ही साफ हो सकेगी. वहीं, चुनाव आयोग से मिली जानकारी के मुताबिक चुनाव चिन्हों का आवंटन 20 जनवरी को किया जाएगा. 28 जनवरी सुबह 8 से शाम 5 बजे तक मतदान होगा, जबकि मतगणना 31 जनवरी को सुबह 9 बजे से होगी. 

कोरोना इफेक्ट: जयपुर सहित राजस्थान के 13 शहरों में जारी रहेगा नाइट कर्फ्यू

पूनिया ने कहा कि निकाय चुनाव में कई मुद्दे हैं, जो कांग्रेस को भारी पड़ेंगे. बेरोजगार भत्ता, किसान कर्जमाफी के साथ ही निकायों में ठप पड़े विकास कार्य और भ्रष्टाचार के मुद्दे भी चुनाव में उठाए जाएंगे. पूनिया ने राज्य में शुरू होने जा रही आयुष्मान भारत योजना को लेकर राज्य सरकार पर निशाना साधा. उन्होंने कहा कि राज्य सरकार देर से आई, लेकिन कितनी दुरूस्त आई है, ये देखने की बात होगी.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें