पूरे राजस्थान में लागू करें भीलवाड़ा मॉडल, फिर देश की बात करें गहलोत : देवनानी

Smart News Team, Last updated: 05/12/2020 04:51 PM IST
  • भाजपा विधायक ने कहा- गहलोत खुद अपनी पीठ थपथपाने और केन्द्र को कोसने में समय गंवाने की बजाए प्रदेश को संभालें और कोरोना से त्रस्त जनता की रक्षा कर उन्हें राहत दें. भीलवाड़ा मॉडल देश को देने का ज्ञान बांटने वाले गहलोत पहले उसे अपने गृह जिला जोधपुर और प्रदेश की राजधानी जयपुर में सख्ती से लागू करें.
राजस्थान के पूर्व शिक्षा राज्यमंत्री वासुदेव देवनानी

जयपुर. राजस्थान के पूर्व शिक्षा राज्यमंत्री और अजमेर उत्तर से भाजपा विधायक वासुदेव देवनानी ने एक बार फिर सूबे के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत पर हमला बोला है. उन्होंने कहा कि गहलोत खुद अपनी पीठ थपथपाने और केन्द्र को कोसने में अपना समय गंवाने की बजाए प्रदेश को बेहतर तरीके से संभालें और कोरोना से त्रस्त जनता की रक्षा कर उन्हें राहत दें. भीलवाड़ा मॉडल देश को देने का ज्ञान बांटने वाले गहलोत पहले उसे अपने गृह जिला जोधपुर और प्रदेश की राजधानी जयपुर में सख्ती से लागू करें. 

देवनानी ने कहा कि गहलोत भीलवाड़ा मॉडल देश को देने का बार-बार राग अलापते हैं. इस मामले में ‘पर उपदेश कुशल बहुतेरे’ नामक कहावत चरितार्थ होती है. गहलोत जिस मॉडल को देश को देने की पैरवी कर रहे हैं, उसे अब तक अपने गृह जिला जोधपुर और राजधानी जयपुर में लागू करने की हिम्मत नहीं कर पाए. कोरोना से जोधपुर, जयपुर सहित पूरे प्रदेश की जनता की हालत खराब हो रही है. समय पर मरीजों की जांचे तक नहीं हो पा रही है. अस्पतालों में ऑक्सीजन की कमी के चलते लोग दम तोड़ रहे हैं. कोरोना इस कदर कहर बरपा रहा है कि जनता को राहत देने में नाकाम राज्य सरकार मरीजों के आंकड़ें तक सही नहीं बता रही है. 

जयपुर में युवती की अश्लील फोटो की वायरल, लोगों ने बांधकर पीटा, थाने ले गई पुलिस

भीलवाड़ा मॉडल को लेकर अपनी पीठ थपथपाने वाले पहले अपने पूरे राज्य में ही लागू करें,  उसके बाद देश को देने की बता करें. देवनानी का कहना है कि जिन योजनाओं को लेकर गहलोत जनता की वाहवाही लूट रहे हैं, वे सब केन्द्र सरकार के सहयोग से ही संभव हो पाया है. सामाजिक सुरक्षा पेंशन के तहत लाखों लोगों को तीन माह की अग्रिम पेंशन देना, सामाजिक सुरक्षा की किसी भी सरकारी योजना के दायरे में नहीं आने वाले गरीब एवं जरूरतमंद लाखों लोगों को नकद सहायता इत्यादि केन्द्र सरकार के सहयोग का ही परिणाम है.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें