BTP का गहलोत सरकार से समर्थन वापस लेने का ऐलान, आरोप-कांग्रेस ने BJP से मिलाया हाथ

Smart News Team, Last updated: 11/12/2020 06:09 PM IST
  • राजस्थान के जिला परिषद और पंचायत चुनाव में हार के बाद भारतीय ट्राइबल पार्टी (बीटीपी) ने अशोक गहलोत सरकार से समर्थन वापस लेने के ऐलान से कांग्रेस को झटका लगा है. बीटीपी का आरोप है कि पंचायत चुनाव में कांग्रेस ने बीजेपी से हाथ मिलाया.
बीटीपी ने राजस्थान सरकार से समर्थन वापस लेने का ऐलान किया.

जयपुर. राजस्थान के जिला परिषद और पंचायत चुनाव की हार के बाद शुक्रवार को भारतीय ट्राइबल पार्टी (बीटीपी) ने अशोक गहलोत सरकार से समर्थन वापस लेने का ऐलान किया है. भारतीय ट्राइबल पार्टी ने कांग्रेस पर बीजेपी से हाथ मिलाने क आरोप लगाया है. बीटीपी नेता छोटीभाई वासवा ने कहा कि राजस्थान में गहलोत सरकार से बीटीपी अपना समर्थन वापस लेगी.

बीटीपी के प्रदेश अध्यक्ष वेलाराम घोघरा ने कहा कि इन दोनों पार्टियों की मिलीभगत से वह डूंगरपुर में अपना जिला प्रमुख और तीन पंचायत समितियों में प्रधान नहीं बना पाई जबकि उनके पास बहुमत था. वेलाराम घोघरा ने कहा कि इस घटनाक्रम से कांग्रेस और बीजेपी, दोनों को असली चेहरा सामने आ गया है. हम राज्य की गहलोत सरकार ने अपने रिश्ते खत्म कर रहे हैं.

सीएम गहलोत ने कहा- हमारा ध्यान कोरोना पर था और विपक्ष ने लोगों को भ्रमित किया

राजस्थान में बीटीपी के दो विधायक हैं. बीटीपी ने राज्यसभा चुनाव मे कांग्रेस का साथ दिया था. आपको बता दें कि राजस्थान के 21 जिलों के जिला परिषद चुनाव में 636 सीटों में से बीजेपी ने 353, कांग्रेस 252 और अन्य ने 21 सीटों पर जीत दर्ज की. वहीं 21 जिलों में हुए पंचायत समिति के चुनाव में 4,371 वार्डों में से भाजपा ने 1990, कांग्रेस 1856 और अन्य ने 525 सीटों पर जीत हासिल की.

जयपुर: डॉक्टर्स की हड़ताल के कारण देर से शुरू हुई OPD, मरीजों की लगी लंबी लाइन

इन चुनाव नतीजों पर राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने कहा कि पिछले नौ महीनों में हमारी सरकार कोविड-19 की रोकथाम के लिए मेहनत कर रही है. हमारी प्राथमिकता लोगों का जीवन और आजीकविका बचाना रही है. गहलोत ने कहा कि सरकार का ध्यान महामारी को रोकने पर रहा, जिसके चलते हम अपनी योजनाओं और सरकार के कार्यों का अच्छे से प्रचार नहीं कर सके.

 

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें