BVG कंपनी के कर्मचारियों की हड़ताल, जयपुर में लगा कूड़े का अंबार

Anurag Gupta1, Last updated: Wed, 15th Sep 2021, 8:42 PM IST
जयपुर में डोर टू डोर कूड़ा उठाने वाली बीवीजी कंपनी के कर्मचारी बकाया भुगतान न मिलने पर हड़ताल पर चले गए है. जिसके चलते शहर में हर तहफ कूड़ा-कूड़ा हो रखा है, पिछले तीन महीने से वेतन नहीं मिला है.
बीवीजी कंपनी के कर्मचारियों की हड़ताल, जयपुर में लगा कूड़े का अंबार

जयपुर. डोर टू डोर कूड़ा उठाने वाली बीवीजी कंपनी का कर्मचारियों के बकाया भुगतान को लेकर विवाद अभी जारी है. बीते तीन महीने से कर्मचारियों और कंपनी के बीच वेतन को लेकर तनातनी चल रही है. बीते तीन महीने से कमर्चारियों को वेतन नहीं मिला. जिसके चलते कर्मचारी हड़ताल पर चले गए हैं. लेकिन इन सबका खामियाजा शहरवासियों को भुगतना पड़ रहा है. पूरे शहर में कूड़ा न उठने की वजह से गंदगी मची पड़ी है.

बता दें पिछले तीन महीने से सफाई कर्मचारियों को बीवीजी कंपनी ने वेतन नही दिया है. जिसके चलते सभी कर्मचारियों ने हड़ताल करने का फैसला लिया है. नगर निगम ग्रेटर और हैरिटेज में आज से डोर टू डोर कूड़ा उठाना बंद हो गया हैं. सड़कों पर बने कूड़ा घरों से भी कूड़ा नहीं उठाया जा रहा है जिसके चलते सड़को पर कूड़े का ढेर लगता जा रहा है. राहगीरों का चलना मुहाल है.

विधानसभा में बोले BJP विधायक- राजस्थान का ये इलाका बन गया मिनी पाकिस्तान

वेतन न मिलने से आर्थिक स्तिथि बिगड़ रही:

बातचीत के दौरान कर्मचारियों ने बताया कि पिछले दस दिन से नगर निगम अधिकारियों और बीवीजी के वरिष्ठ पदाधिकारियों से वेतन को लेकर बात की जा रही है लेकिन कोई समाधान नही निकल पाया है. नगर निगम के अधिकारियों से बात हुई तो उनका कहना है कि बीवीजी कंपनी को दो बार भुगतान किया जा चुका है. वेतन देना कंपनी का काम है. पिछले तीन महीने से वेतन न मिलने की वजह से हमारी आर्थिक स्तिथि खराब हो रही है. जिसकी वजह से हम मजबूर होकर हड़ताल कर रहे हैं.

साथ ही बताया कि पिछले कई दिनों से कंपनी से वेतन की मांग की जा रही है लेकिन सुनवाई नहीं हो रही है. जिसके चलते 1500 कर्मचारियों ने हड़ताल करने का निर्णय लिया है. वेतन न मिलने की वजह से 60 फीसद कर्मचारी कंपनी छोड़ने को कह चुके है. ऐसे में अगर कर्मचारी हड़ताल पर चले गए तो कूड़े के ढेर की वजह से शहर की स्तिथि और खराब हो जाएगी.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें