गहलोत सरकार में बाल दिवस पर राजस्थान विधानसभा चलाएंगे बच्चे, अध्यक्ष से लेकर नेता तक बनेंगे

Smart News Team, Last updated: Tue, 9th Nov 2021, 9:44 PM IST
  • बाल दिवस 14 नवंबर पर देश में पहली बार राज्य विधानसभा में बाल सत्र का आयोजन किया जाएगा, जिसमें बच्चे प्रश्‍न पूछेंगे और सदन में बहस करेंगे. इस सत्र में बच्‍चों द्वारा विधानसभा सत्र का संचालन किया जायेगा.
गहलोत सरकार में बाल दिवस पर राजस्थान विधानसभा चलाएंगे बच्चे, अध्यक्ष से लेकर नेता तक बनेंगे

जयपुर. एक विधानसभा ऐसी होगी अबकी बार जहां पर हमारे बड़े नेता, विधायक और मंत्री नहीं बल्कि बच्चे विधानसभा का संचालन करते नजर आएंगे. विधानसभा अध्यक्ष से लेकर सत्ता पक्ष व विपक्ष में भी बच्चे ही बच्चे होंगे. ये सवाल करेंगे और जवाब भी बच्चे ही देंगे. खास बात यह है कि असल के मंत्री और बाकी नेता विधायक सब दर्शक की भूमिका में होंगे. ऐसा पहली बार होगा जब बच्चे विधानसभा सत्र का संचालन करेंगे.

यह प्रयोग इस बार राजस्थान की सत्तारूढ़ पार्टी कांग्रेस कर रही है. मौका है पूर्व प्रधानमंत्री पंडित जवाहरलाल नेहरू के जन्मदिवस का. आगामी 14 नवंबर यानी बाल दिवस के रूप में मनाए जाने वाला यह दिन इस बार राजस्थान के लिए खास होगा. इस मौके पर बच्चे विधानसभा सत्र चलाएंगे.

ऑडी कार से लोगों को कीड़े-मकोड़ों की तरह कुचलता गया रईसजादा, दिल दहला देगा Video

जनता से जुड़े मुद्दों पर होगी बहस

इस सत्र में बच्‍चों द्वारा विधानसभा सत्र का संचालन किया जायेगा. खास बात यह होगी कि बच्‍चे ही अध्‍यक्ष, मुख्‍यमंत्री और नेता प्रतिपक्ष बनेंगे और देश की यह भावी पीढ़ी सदन में बैठकर जनता से जुड़े मुद्दों पर बहस करेगी. विधायक की भूमिका में बच्‍चे मंत्रियों से प्रश्‍न कर जवाब मागेंगे और शून्‍यकाल में अपनी बात भी रखेंगे.

ये होंगे उपस्थित

इस अवसर पर लोकसभा अध्‍यक्ष ओम बिड़ला, विधानसभा अध्‍यक्ष डॉ. सी.पी. जोशी, मुख्‍यमंत्री अशोक गहलोत और नेता प्रतिपक्ष गुलाब चन्‍द कटारिया सहित राजस्‍थान विधान सभा के सदस्‍य बच्‍चों दारा संचालित बाल सत्र के साक्षी होंगे. राष्‍ट्रमण्‍डल संसदीय संघ की राजस्‍थान शाखा के तत्‍वावधान में बाल सत्र का संचालन होगा.

रिहसर्ल की हो रही है तैयारी

इस मौके को खास बनाने के लिए बच्‍चे जी जान से तैयारी कर रहे हैं. प्रश्‍न पूछने का तरीका, जवाब देने की स्‍टाइल और सदन संचालन में विधायकों की कार्य प्रणाली प्रस्‍तुत करने के लिए रिहसर्ल कर रहे हैं. इसके साथ ही इसे पूरा लुक देने के लिए बच्‍चों ने कुर्ता पायजामें तैयार कराये हैं.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें