भर्ती परीक्षाओं में गड़बड़ी करने वालों पर नकेल कसनी की तैयारी, अध्यादेश लाएगी राजस्थान सरकार

Uttam Kumar, Last updated: Mon, 18th Oct 2021, 12:52 PM IST
राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने कहा है कि भर्ती परीक्षाओं में गड़बड़ी रोकने के लिए राज्य सरकार जल्द ही अध्यादेश लाएगी. इससे जुड़े कानूनों को और सख्त किया जाएगा. परीक्षाओं में किसी तरह की बाधा उत्पन्न करने को संज्ञेय अपराध के साथ ही इसे गैर-जमानती अपराध की श्रेणी में शामिल किया जाएगा. इसके साथ ही अभी इस तरह की घटना के लिए दी जाने वाली सजा को तीन साल से बढ़ाकर सात साल किया जाएगा.   
भर्ती परीक्षाओं में गड़बड़ी रोकने के लिए अध्यादेश लाएगी राजस्थान सरकार.फाइल फोटो

जयपुर. इस साल राजस्थान शिक्षक पात्रता परीक्षा(REET Exam 2021) के प्रश्न पत्र लीक हो जाने के बाद राजस्थान सरकार अब सख्ती के मूड में है. सरकार भर्ती परीक्षाओं में गड़बड़ी करने वालों पर नकेल कसने की तैयारी कर रही है. राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने कहा है कि भर्ती परीक्षाओं में गड़बड़ी रोकने के लिए राज्य सरकार जल्द ही अध्यादेश लाएगी. इससे जुड़े कानूनों को और सख्त किया जाएगा.  

मुख्यमंत्री ने सीएमआर में आयोजित गृह विभाग की उच्च-स्तरीय बैठक में कहा कि नए अध्यादेश में प्रतियोगी परीक्षाओं में नकल कराने, पेपर लीक सहित अन्य सभी गड़बड़ियों में शामिल लोगों के खिलाफ सख्त कार्रवाई के प्रावधान होंगे. इस तरह की परीक्षाओं में किसी तरह की बाधा उत्पन्न करने को संज्ञेय अपराध के साथ ही इसे गैर-जमानती अपराध की श्रेणी में शामिल किया जाएगा.  इसके साथ ही अभी इस तरह की घटना के लिए दी जाने वाली सजा को तीन साल से बढ़ाकर सात साल किया जाएगा.  

राजस्थान उपचुनाव: गहलोत सरकार के खिलाफ बीजेपी ने जारी किया ब्लैकपैपर

मुख्यमंत्री ने कहा कि भविष्य में होने वाली सभी भर्ती परीक्षाओं में किसी तरह की गड़बड़ी होने पर इसमें शामिल सभी लोगों के खिलाफ सख्त कार्रवाई की जाएगी. इस काम में सरकारी अधिकारी और कर्मचारी की संलिप्तता पाए जाने पर राज्य सरकार उसे सेवा से बर्खास्त करेगी. यदि इस तरह के मामले में किसी निजी शिक्षण संस्थान से जुड़े व्यक्ति की संलिप्तता पाई जाती है तो संबंधित संस्थान की मान्यता स्थायी रूप से समाप्त कर दी जाएगी. आपको बता दे इस साल राजस्थान शिक्षक पात्रता परीक्षा प्रश्न पत्र लीक मामले में कई पुलिस अधिकारी का भी नाम आया था.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें