सीएम गहलोत ने कहा- एनडीए सरकार के काम करने के तरीके से भारत बंद की नौबत आई

Smart News Team, Last updated: Mon, 7th Dec 2020, 4:55 PM IST
  • राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने कहा कि मोदी सरकार ने लोकतांत्रिक तरीकों की धज्जियां उड़ा दी हैं. लोकतंत्र में संवाद सबसे जरूरी है, लेकिन नए कृषि कानूनों पर केंद्र सरकार ने राज्य सरकारों और किसान संगठनों से बात ही नहीं की. गहलोत ने कहा कि मोदी सरकार का रवैया फासीवादी सोच से भरा हुआ है.
राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत

जयपुर. राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने एक बार फिर केंद्र सरकार पर हमला बोला है. उन्होंने कहा कि एनडीए सरकार के काम करने के तरीके के कारण आज देशभर के किसान सड़कों पर हैं. ऐसे में अब भारत बंद का ऐलान किया गया है. गहलोत ने कहा कि मोदी सरकार ने सभी संवैधानिक रीति रवाजों और लोकतांत्रिक तरीकों की धज्जियां उड़ा दी हैं. लोकतंत्र में संवाद सबसे जरूरी है, लेकिन नए कृषि कानूनों पर केंद्र सरकार ने राज्य सरकारों और किसान संगठनों से कोई बात ही नहीं की. 

सीएम गहलोत ने कहा कि मोदी सरकार का रवैया अहंकार और फासीवादी सोच से भरा हुआ है. इसलिए वे जनता और विपक्ष की आवाज नहीं सुन रहे. किसी भी सरकार का विरोध, ज्ञापन, धरना प्रदर्शन इत्यादि उसकी नीतियों और फैसलों के कारण होते हैं, जो स्वस्थ लोकतांत्रिक परंपरा में आवश्यक है. सरकार का विरोध करना देशविरोधी या देशद्रोह नहीं हो सकता है. लेकिन, जनता की आवाज सुनने की बजाय उन्हें दबाने के मोदी सरकार के तरीके के कारण आज देशभर में किसान सड़कों पर हैं. गहलोत ने कहा कि जब किसानों के समर्थन में कांग्रेस नेता राहुल गांधी और कैप्टन अमरिंदर सिंह ने पंजाब में ट्रैक्टर यात्रा निकाली, तब भी केंद्र सरकार इसे गंभीरता से लेती तो आज ये नौबत नहीं आती. 

कर्ज चुकाने के लिए बेटे ने रची खुद के अपहरण की कहानी, पिता को वीडियो कॉल करवाया

गहलोत ने कहा कि जब केंद्र सरकार शांतिपूर्ण धरनों में जनता की बात नहीं सुनेगी, विपक्ष और राष्ट्रीय किसान संगठनों से संवाद नहीं करेगी, राज्यपाल विपक्षी सरकारों द्वारा सदन में पास किए गए बिलों को राष्ट्रपति के पास नहीं भेजेंगे और राष्ट्रपति विपक्षी पार्टी की सरकार वाले मुख्यमंत्रियों को मिलने का समय नहीं देंगे, तो जनता किस तरह अपनी भावना केंद्र सरकार के सामने प्रकट करेगी.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें