कांस्टेबल भर्ती परीक्षा: जयपुर, जोधपुर व कोटा से पकड़े गए नकल गिरोह के सदस्य

Smart News Team, Last updated: Mon, 9th Nov 2020, 8:24 PM IST
  •  राजस्थान में तीन दिन तक चली कॉन्सटेबल भर्ती परीक्षा में जयपुर से लेकर जोधपुर सहित कई अन्य जगहों पर नकल गिरोह के सदस्यों को पकड़ा गया है. इसके अलावा कई अभ्यर्थी की जगह परीक्षा देने आए फर्जी अभ्यर्थी को भी पुलिस ने गिरफ्तार किया है.
जयपुर से लेकर जोधपुर सहित कई अन्य जगहों पर नकल गिरोह के सदस्यों को पकड़ा गया है

जयपुर: जयपुर में बीते दिन कांस्टेबल भर्ती परीक्षा संपन्न हुई. हैरान करने वाली बात यह है कि तीन दिन तक चली इस परीक्षा में जयपुर से लेकर जोधपुर सहित कई अन्य जगहों पर नकल गिरोह के सदस्यों को पकड़ा गया है. परीक्षा के दौरान नकल गिरोह काफी सक्रिय नजर आया. वहीं, जोधपुर में कांस्टेबल की परीक्षा के लिए दूसरे अभ्यर्थी की जगह पाली के एक सेंटर में फर्जी अभ्यर्थी पकड़ा गया है, जिसका नाम अशोक बताया जा रहा है और वह फलोदी के खारा का रहने वाला है.

जोधपुर में गिरफ्तार हुए ओशक नाम के आरोपी ने बताया कि पूरे राजस्थान में उनका नेटवर्क है. पुलिस द्वारा पूछताछ में उसने बताया कि वह खुद भी प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारी कर रहा था, लेकिन मोटी कमाई के लालच में वह नकल गिरोह से जुड़ गया. नकल गिरोह का मास्टरमाइंड जयपुर का डैनी है. इसके अलावा नकल गिरोह में राजू मांझू व सवाई सिंह के नाम भी सामने आ रहे हैं. हालांकि, अशोक की गिरफ्तारी के बाद से ये लोग फरार चल रहे हैं और इनका मोबाइल फोन भी बंद है. पूछताछ में अशोक ने कबूल किया है कि वह दूसरे अभ्यर्थी की जगह परीक्षा देने की तैयारी में था. इसके साथ ही वह 4 लाख रुपए में फर्जी पेपर भी बेचना चाहता था.

तकनीकी सहायक के घर मिले 47.77 लाख रुपए, गिनने के लिए मंगानी पड़ी मशीन

बता दें कि अशोक के पास से तलाशी के दौरान दो आइफोन मिले हैं, जिसमें नकल गिरोह से जुड़े कई लोगों के नाम का खुलासा हुआ है. वहीं कोटा में पुलिस ने जयपुर के बामनवास निवासी रामविलास गुर्जर की जगह परीक्षा देने बिहार से आए फर्जी अभ्यर्थी दीपक शुक्ला को गिरफ्तार किया है. बताया जा रहा है कि उसे तीन दिन पहले ही गिरफ्तार कर लिया गया था, लेकिन मामले का खुलासा हाल ही मं किया गया है.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें