प्रदेश में 1 अप्रैल से संविदाकर्मियों को मिलेगा 10% बढ़ा हुआ मानदेय

Smart News Team, Last updated: Wed, 24th Mar 2021, 1:46 PM IST
  • राज्य के अलग-अलग विभागों में काम कर रहे संविदा कर्मचारियों के लिए राहत भरी खबर है. अब उनका बढ़ा हुआ 10% मानदेय 1 अप्रैल से उन्हें मिलेगा. बता दें कि, सीएम गहलोत ने विधानसभा में इस बढ़े हुए मानदेय का एलान किया था.
सीएम अशोक गहलोत (फाइल फोटो)

जयपुर: राजस्‍थान के मुख्यमंत्री द्वारा हाल ही में विधानसभा में की गई घोषणा पर इतनी जल्दी पालन कर दिया जाएगा, ऐसा किसी संविदाकर्मी ने नहीं सोचा होगा, लेकिन अब उनके लिए एक राहत भरी खबर है कि उनका बढ़ा हुआ 10 प्रतिशत मानदेय आगामी अप्रैल से मिलने लगेगा. बताया जा रहा है कि सीएम गहलोत के एलान के बाद से ही प्रदेश का वित्त विभाग इसकी तैयारियों में जुट गया था. अब वित्त विभाग सभी अलग-अलग विभागों को इस प्रक्रिया की गाइडलाइन भी भेजने जा रहा है.

आपको बता दें कि, इस समय पूरे राज्य में करीब 4.30 लाख संविदाकर्मी विभिन्न विभागों में सेवारत हैं. जिनमें कि ग्राम रोजगार सहायक, ग्राम पंचायत सहायक, शिक्षक, पैरा टीचर्स, आशा, आंगनबाड़ी कार्यकर्ता व मिडडे मील कुक जैसे कई लोग शामिल है. ऐसे में जब देश भर में कोरोना काल चल रहा था, तब इस कर्मियों ने जान की परवाह न करते हुए बड़ा योगदान दिया था. इसी के चलते सीएम गहलोत ने इनके मानदेय में 10% की वृद्धि का एलान किया था.

कांस्टेबल भर्ती के तहत आज से होने वाले फिजिकल टेस्ट पर हाईकोर्ट ने लगाई रोक

गौरतलब है कि, विधानसभा चुनाव के दौरान कांग्रेस ने अपने घोषणा पत्र में इन संविदाकर्मियों को नियमित करने का वादा भी किया था. ऐसे में प्रदेश के कर्मचारी संगठन ने सरकार के इस फैसले का स्वागत तो किया है लेकिन यह सवाल भी उठाया है कि, सरकार सत्ता में अपने दो साल पूरा कर चुकी है पर अभी तक संविदाकर्मियों को नियमित करने का निर्णय क्यों नहीं लिया गया है. 

बीसलपुर से जयपुर के लिए अतिरिक्त पानी लेने की तैयारी, विभाग ने भेजा प्रस्ताव

ज्ञात हो कि, इन कर्मियों के नियमितीकरण के चलते पूर्व में राज्य सरकार के ऊर्जा मंत्री बी.डी. कल्ला की अध्यक्षता में एक कमेटी का निर्माण भी किया गया था. इसी क्रम में राज्य सचिवालय में कई बैठकें भी की गई थी, जिसके बाद इस कमेटी ने अपनी रिपोर्ट सरकार को भेज दी थी. लेकिन मामला समय के साथ ठन्डे बस्ते में चला गया.

 

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें