जयपुर: एनीडेस्क एप के जरिए साइबर ठगों ने उड़ाए 1 लाख, झारखंड से आरोपी अरेस्ट

Smart News Team, Last updated: Fri, 9th Jul 2021, 12:32 PM IST
  • जयपुर में साइबर ठगों ने ऐनीडेस्क एप डाउनलोड करवाकर एक व्यक्ति के खाते से एक लाख रुपये निकाल लिए. पीड़ित की शिकायत के बाद पुलिस ने झारखंड के जामताड़ा से आरोपी को दबोच लिया है.
एनीडेस्क डाउनलोड करवाकर साइबर ठगों ने उड़ाए एक लाख (प्रतीकात्मक तस्वीर)

जयपुर. जयपुर में साइबर अपराधियों ने एनीडेस्क एप डाउनलोड करवाकर एक व्यक्ति के खाते से एक लाख रुपये उड़ा लिए. पीड़ित व्यक्ति महावीर मीणा ने इस मामले में साइबर क्राइम थाने में रिपोर्ट दर्ज कराई है. जिसके बाद छानबीन में पता चला कि आरोपियों का ठिकाना झारखंड के जमताढ़ा में है. जहां दबिश देकर पुलिस ने आरोपी को गिरफ्तार कर लिया है. जामताड़ा में साइबर जालसाजों के खिलाफ कार्रवाई करने में राजस्थान एसओजी भी जुटी हुई है.

अतिरिक्त पुलिस आयुक्त अजयपाल लांबा ने बताया कि महावीर मीणा ने साइबर क्राइम थाना में रिपोर्ट दर्ज कराई है. जिसमें उन्होंने बताया कि टोडाभीम एसबीआई ब्रांच में उनका बैंक अकाउंट है. 4 मई 2019 से 5 मई 2019 तक पीड़ित का फोन पे ब्लॉक आने पर उन्होंने इंटरनेट से कस्टमर केयर का नंबर लेकर फोन किया. यह नंबर साइबर अपराधियों का था. जिन्होंने पीड़ित को एनीडेस्क एप डाउनलोड करने को कहा. इसके बाद उनके बैंक अकाउंट से एक लाख एक हजार रुपये निकाल लिए.

RSMSSB पटवारी एग्जाम की नई डेट रिलीज, 15 जुलाई से नए कैंडिडेट्स भर सकेंगे फॉर्म

पीड़ित के शिकायत दर्ज कराने के बाद क्राइम ब्रांच के डीसीपी दिगंत आनंद के निर्देशन में पुलिस टीम ने जालसाज के जामताड़ा में ठिकाने का पता लगाया. जिसके बाद कमिश्नरेट के स्पेशल ऑफेंसेज और साइबर क्राइम थाना पुलिस ने झारखंड के जामताड़ा में दबिश दी और जालसाज मुस्तकिम अंसारी को अरेस्ट कर लिया. पुलिस ने बताया कि साइबर जालसाज ऐनीडेस्क एप डाउनलोड करवाकर लोगों के बैंक अकाउंट में सेंध मार रहे है. इन साइबर ठगों से बचने के लिए किसी अनजान व्यक्ति की ओर से भेजे गए किसी ऐप को डाउनलोड नहीं करें.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें