दलित परिवार ने चॉपर से उतारी दुल्हन, हेलिकॉप्टर देखने उमड़ी लोगों की भीड़

Atul Gupta, Last updated: Thu, 16th Dec 2021, 6:22 PM IST
  • एक तरफ जहां दलितों के घोड़ी तक चढ़ने पर विवाद हो जाता है वहीं दूसरी तरफ राजस्थान में एक दलित परिवार ने हेलिकॉप्टर से अपनी बहू को उतारा. दलित परिवार के बहू को हेलिकॉप्टर में उतारने की घटना को देखने लोगों की भीड़ लग गई.
राजस्थान के बारमेड़ में चॉपर से उतरी दुल्हन (फोटो- सोशल मीडिया)

जयपुर: देश में दलितों के घोड़ी चढ़ने को लेकर हुए हंगामे की तो कई खबरें आपने पढ़ी होंगी. लेकिन आज जो खबर हम आपको बताने जा रहे हैं उसे पढ़कर आपको गर्व होगा कि देश का दलित समाज अब बदल रहा है. मामला राजस्थान के बारमेड़ जिले का है. दरअसल मंगलवार रात तरुण मेघवाल की शादी पाकिस्तान बॉर्डर से लगे गांव बहीधानों की धानी में रहने वाली धानी से हुई. अगले दिन विदाई के वक्त दुल्हन की विदाई किसी कार में नहीं बल्कि हेलिकॉप्टर में हुई.

इसके पीछे कारण ये कि दूल्हे की मां की इच्छा थी कि वो अपनी बहू को हेलिकॉप्टर में उतारेंगी लिहाजा परिवार ने हेलिकॉप्टर किराए पर लिया लेकिन ऐन वक्त पर हेलिकॉप्टर कंपनी ने अपना हेलिकॉप्टर देने से मना कर दिया. दूल्हे की मां फिर भी नहीं मानी और दूसरी कंपनी के हेलिकॉप्टर को एक लाख रूपये ज्यादा देकर बुक किया गया. दोनों दूल्हा-दुल्हन हेलिकॉप्टर से जसेधर धाम पहुंचे.

जैसे ही हेलिकॉप्टर वैसे ही गांव वाले बड़ी संख्या में लैंडिंग वाली जगह पहुंच गए. इतनी बड़ी भीड़ देखकर पायलट भी घबरा गया कि आखिर लैंड कैसे किया जाए. हालांकि मौके पर तुरंत पुलिस पहुंची और भीड़ को कंट्रोल किया गया और फिर कहीं जाकर हेलिकॉप्टर की लैंडिंग कराई जा सकी. पूरे जिले में इस शादी की चर्चा है, खास तौर पर जिस तरह दलित समाज की बहू हेलिकॉप्टर से उतरी उसे लेकर लोग काफी खुश हैं. गांव के रहने वाले एक रिटायर्ड टीचर ने कहा कि गांव में दलित समाज हमेशा से बहुत गरीब रहा है लेकिन जिस तरह से हेलिकॉप्टर के जरिए गांव में बहू को उतारा गया है उससे निश्चित ही दूसरों के लिए मिसाल पैदा की है.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें