जयपुर और जोधपुर नगर निगमों के चुनाव 31 अक्टूबर तक कराने का फैसला

Smart News Team, Last updated: 30/09/2020 05:28 PM IST
  • जयपुर. शहर के हर गली-मोहल्ले में चुनावी धूम धड़ाका देखने को मिलेगा. राजस्थान उच्च न्यायालय ने कोटा, जयपुर और जोधपुर नगर निगमों के चुनाव 31 अक्टूबर तक कराने को कहा.
जयपुर नगर निगम

जयपुर। कोरोना संक्रमण के चलते सुस्त पड़ी राजनीतिक गतिविधियां अब परवान चढ़ने वाली हैं. शहर के हर गली-मोहल्ले में चुनावी धूम धड़ाका देखने को मिलेगा. राजस्थान उच्च न्यायालय ने मंगलवार को कोटा, जयपुर और जोधपुर नगर निगमों के चुनाव 31 अक्टूबर तक कराने को कहा है.

इस फैसले की खबर कोटा तक पहुंचते ही कार्यकर्ताओं के फोन घनघाने लग गए. चुनाव लडऩे की इच्छुक कार्यकर्ता वार्डों में सक्रिये हो गए हैं. कोटा में पहली बार दो नगर निगम के चुनाव होंगे. दोनों निगमों में डेढ़ सौ पार्षद चुने जाएंगे. सात लाख से अधिक मतदाता शहरी सरकार को चुनेंगे. निगम में पिछले साल नवम्बर में ही बोर्ड का कार्यकाल पूरा हो गया था और तब से प्रशासक लगे हुए हैं.

वहीं कोरोना संक्रमण के चलते तीन बार चुनाव स्थगित किए गए हैं. अब अदालत के आदेश पर चुनाव होने हैं. चुनाव आयोग की ओर से जल्द चुनाव कार्यक्रम घोषित किए जाने की संभावना है. वार्डों में वर्ग और जातिगत आरक्षण का निर्धारण पहले ही हो चुका है.

मतदाता सूचियां को भी अंतिम रूप दिया जा चुका है. जिला निर्वाचन विभाग की ओर से चुनाव को लेकर तैयारियां शुरू कर दी है. वहीं भाजपा और कांग्रेस ने भी चुनावी तैयारियां शुरू कर दी हैं. पहली बार शहर में कोटा उत्तर और कोटा दक्षिण नगर निगम के चुनाव होंगे.

लाडनूं से जयपुर सीधे पहुंचने के लिए विधायक ने रखी नए रेलमार्ग निर्माण की मांग

कोटा दक्षिण निगम में महापौर की सीट सामान्य वर्ग के लिए है. जबकि कोटा उत्तर निगम की सीट एससी महिला वर्ग के लिए आरक्षित है. दक्षिण निगम की सीट सामान्य वर्ग के लिए होने के कारण दोनों ही दलों के दिग्गज नेताओं की नजर महापौर की कुर्सी पर है. हालांकि पहले महापौर की कुर्सी तक पहुंचने के लिए पार्षद का चुनाव जीतना होगा. वहीं उत्तर निगम में दोनों ही दलों में एससी वर्ग की महिला कार्यकर्ता सक्रिये हो गई हैं.

 

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें