पाक सीमा पर बनी इमरजेंसी स्ट्रिप, राजनाथ सिंह और नितिन गडकरी को लेकर सुपर हरक्युलिस विमान की हाईवे पर सेफ लैंडिंग

Haimendra Singh, Last updated: Thu, 9th Sep 2021, 2:58 PM IST
  • भारत-पाकिस्तान सीमा पर वायुसेना विमानों की लैंडिंग के लिए इमरजेंसी स्ट्रिप बनाया गया है. गुरुवार को भारतीय वायुसेना के सुपर हरक्युलिस विमान ने इमरजेंसी स्ट्रिप पर सुरक्षित लैंडिंग की. लैंडिग के समय विमान में रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह और नितिन गडकरी सवार थे.
रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह और नितिन गडकरी को लेकर हाईवे पर सुपर हरक्युलिस विमान लैंड.( सांकेतिक फोटो )

राजस्थान. भारत-पाकिस्तान सीमा से 40 किलोमीटर दूर बाड़मेर के हाईवे पर बनी इमरजेंसी स्ट्रिप पर भारतीय वायुसेना ने गुरुवार को अपनी ताकत का प्रर्दशन किया. 3 किलोमीटर लंबी इस इमरजेंसी फील्ड पर भारत के सुपर हरक्युलिस ने लैंडिंग की गई. हरक्युलिस की लैंडिंग के समय भारत के रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह और सड़क-परिवहन मंत्री नितिन गडकरी विमान में सवार थे. शक्ति प्रर्दशन कार्यक्रम में राजनाथ सिंह ने कहा, कि सड़क पर बैलगाड़ी-ट्रैक्टर चलते देखा होगा, लेकिन विमान का उतरना ऐतिहासिक है.

वायुसेना के कार्यक्रम में राजनाथ सिंह और नीतीन गडकरी पहुंचे थे. हाईवे पर सुपर हरक्युलिस की लैंडिंग के बाद जगुआर और सुखोई जैसे लड़ाकू विमानों की भी स्ट्रिप पर टच एंड गो लैंडिंग की. कार्यक्रम में चीफ ऑफ डिफेंस स्टाफ बिपिन रावत और एयर चीफ मार्शल आरकेएस भदौरिया भी मौजूद थे. रक्षा और ट्रांसपोर्ट मंत्रालय के सहयोग से देश में इस तरह के करीब 12 हाईवे स्ट्रिप बनाई गई है.

बुजुर्ग सिख को डंडों से पीटने का वीडियो वायरल, जमीन में गिराकर भरे पानी में घसीटा, फोन तोड़ा

रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने एयर स्ट्रिप को लेकर कहा, कि "आपने सड़क पर ट्रैक्टर, बैलगाड़ी चलते हुए देखे होंगे और अब आप सड़क पर विमान उतरते हुए देख रहे हैं. इंटरनेशनल बॉर्डर से कुछ ही दूर ऐसी स्ट्रिप का तैयार होना ये साबित करता है कि हम अपनी रक्षा के लिए तैयार और सक्षम हैं. हम एक भारत और सशक्त भारत की दिशा में तेजी से बढ़ रहे हैं."

33 करोड़ की लागत से बनी इमरजेंसी स्ट्रिप

इमरजेंसी स्ट्रिप को बनाने के लिए 33 करोड़ रुपए का खर्च हुआ हैं. बाड़मेर-जालोर जिले की सीमा अगड़ावा में बनी इमरजेंसी हवाई पट्टी वायुसेना के इमरजेंसी इस्तेमाल के लिए बनाई गई है. इस हवाई पट्टी की लंबाई 3 किमी. और चौड़ाई 33 मीटर है. हवाई पट्टी के दोनों सिरों पर पार्किंग भी बनाई गई हैं, ताकि लैंडिंग के बाद विमानों को पार्क किया जा सके.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें