समर वेकेशंस के बाद फिर से शुरू हुआ फीस विवाद, पैरेंट्स बोले- स्कूलों द्वारा बनाया जा रहा दवाब

Smart News Team, Last updated: Sat, 10th Jul 2021, 3:06 PM IST
राजस्थान में एक बार फिर से फीस विवाद शुरू हो गया है. शनिवार को संयुक्त अभिभावक संघ की ओर से निवारू रोड स्थित सेंट अंसलम स्कूल नॉर्थ सिटी में फीस के मामले को लेकर बड़ी संख्या में पैरेंट्स पहुंचे. जहां वार्ता के दौरान कोई नतीजा नहीं निकला. पैरेंट्स का कहना है कि स्कूलों द्वारा फीस के लिए उन पर दबाव बनाया जा रहा है.
राजस्थान में एक बार फिर से फीस विवाद शुरू हो गया है.

जयपुर. ग्रीष्मकालीन अवकाश खत्म होने के बाद दोबारा से स्कूल खुलते ही एक बार फिर से निजी स्कूलों द्वारा फीस को लेकर पैरेंट्स पर दबाव बनाना शुरू कर दिया है, जिसका पैरेंट्स विरोध कर रहे हैं. जानकारी के अनुसार शनिवार को संयुक्त अभिभावक संघ की ओर से निवारू रोड स्थित सेंट अंसलम स्कूल नॉर्थ सिटी में फीस के मामले को लेकर बड़ी संख्या में पैरेंट्स पहुंचे. पैरेंट्स ने जब स्कूल प्रशासन से इस संबंध में वार्ता करने की कोशिश की तो स्कूल प्रशासन द्वारा करीब 1 घंटे तक गेट नहीं खोला गया जिसके बाद पैरेंट्स की भारी भीड़ जमा होती गई.

बढ़ती हुई भीड़ को देखने के बाद स्कूल प्रशासन द्वारा मौके पर पुलिस को बुलाया गया. पुलिस की मौजूदगी में पैरेंट्स का 5 सदस्य प्रतिनिधि मंडल स्कूल प्रशासन से मिला लेकिन फीस को लेकर किसी प्रकार का हल नहीं निकला. पैरेंट्स ने जब फीस एक्ट 2016 के तहत फीस वसूली की बात कही तो निजी स्कूल द्वारा सुप्रीम कोर्ट के आदेश का हवाला देते हुए फीस वसूली की बात पर अड़े रहे जिसके चलते इस वार्ता में कोई नतीजा नहीं निकला.

उत्तर पश्चिम रेलवे जयपुर-अजमेर से चलाएगी नई ट्रेनें, बिहार जाने वालों को फायदा

संयुक्त अभिभावक संघ के प्रदेश अध्यक्ष अरविंद अग्रवाल ने बताया कि स्कूलों द्वारा एक बार फिर से फीस वसूली को लेकर दबाव बनाया जा रहा है. सुप्रीम कोर्ट ने फीस एक्ट 2016 के तहत फीस वसूली के आदेश दिए हैं. लेकिन निजी स्कूलों द्वारा इस आदेश की अवहेलना करते हुए मनमाने रूप से फीस वसूली की जा रही है. पैरेंट्स से वार्ता के लिए आते हैं तो उनकी बात भी नहीं सुनी जा रही है. ऐसे में यदि निजी स्कूलों द्वारा पैरेंट्स को ऐसे ही प्रताड़ित किया गया तो एक बार फिर से पैरेंट्स को सड़कों पर उतरकर आंदोलन करना होगा.

 

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें