भंवरी देवी हत्याकांड मामले में पूर्व विधायक मलखान को 9 साल 8 माह बाद मिली जमानत

Smart News Team, Last updated: Wed, 18th Aug 2021, 12:57 PM IST
  • राजस्थान के बहुचर्चित भंवरी देवी अपहरण और हत्याकांड मामले में जेल में बंद पूर्व विधायक मलखान सिंह विश्नोई को कोर्ट ने जमानत दे दी है. मलखान को 9 साल 8 महीने बाद जमानत मिली है. इससे पहले भी वो दो बार जमानत याचिका दायर कर चुके हैं, लेकिन कोर्ट ने उसे खारिज कर दिया था. मलखान आज जेल से रिहा होंगे.
भंवरी देवी अपहरण और हत्याकांड मामले में जेल में बंद पूर्व विधायक मलखान सिंह विश्नोई को कोर्ट ने जमानत दे दी है

जोधपुर/जयपुर. राजस्थान के जोधपुर के चर्चित भंवरी देवी अपहरण और हत्याकांड मामले में पूर्व विधायक मलखान सिंह विश्नोई को 9 साल 8 महीने बाद राजस्थान हाईकोर्ट से जमानत मिल गई है. उनकी रिहाई आज हो जाएगी, कोर्ट ने मंगलवार को उनकी जमानत के आदेश जारी कर दिए थे. इस मामले में 17 लोग आरोपी थे, जिनमें सुप्रीम कोर्ट से सबसे पहले परसराम विश्नोई को जमानत मिली थी. उसके बाद हाईकोर्ट ने रेशमाराम, सहीराम विश्नोई, ओमप्रकाश, दिनेश, अशोक, उमेशाराम, पुखराज समेत 7 लोगों को जमानत दी है. वहीं, मामले में आरोपी और राजस्थान सरकार के पूर्व मंत्री महिपाल मदेरणा अपनी बीमारी के चलते पहले से ही अंतरिम जमानत में है.

कई बार प्रयास के बाद अब मिली जमानत

पूर्व विधायक मलखान सिंह विश्नोई जमानत के लिए इससे पहले 2013 में भी दो बार प्रयास कर चुके थे, लेकिन कोर्ट ने दोनों बार उनकी जमानत याचिका खारिज कर दी थी. इस बार सुप्रीम कोर्ट में परसराम की जमानत को आधार बनाकर विश्नोई के वकील हेमंत नाहटा और संजय विश्नोई ने जमानत याचिका दाखिल की थी. जिस पर मंगलवार को न्यायाधीश दिनेश मेहता ने सुप्रीम कोर्ट की जमानत में कही बात को आधार मानकर जमानत याचिका पर सुनवाई करते हुए उन्हें जमानत दे दी है. वहीं, अभी इस मामले में आरोपी और भंवरी देवी के पति अमर चंद, बिशनाराम और कैलाश जाखड़ की जमानत याचिका पर कोर्ट ने 24 अगस्त तक सुनवाई टाल दी है.

पर्यटक स्थलों पर महिलाओं की आपत्तिजनक वीडियो बनाता था युवक, पुलिस ने किया अरेस्ट

हत्या कर शव दिया था जला

भंवरी देवी का अपहरण किया गया था, जिसके बाद उसकी हत्या कर दी गई थी. हत्या के बाद भंवरी देवी के शव को जलाकर उसकी राख को राजीव गांधी लिफ्ट नहर में बहा दिया गया. इस मामले में मंत्री का नाम आने के बाद उस समय की सरकार ने इस केस को सीबीआई को सौंप दिया था. सीबीआई ने जांच में तत्कालीन मंत्री महिपाल मदेरणा, विधायक मलखान सिंह विश्नोई समेत कई लोगों से पूछताछ कर उन्हें गिरफ्तार कर लिया.

पति की मारपीट से तंग पत्नी का खौफनाक बदला, ड्रग्स देकर लगाए बिजली के झटके

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें