तकनीकी सहायक के घर मिले 47.77 लाख रुपए, गिनने के लिए मंगानी पड़ी मशीन

Smart News Team, Last updated: Sat, 7th Nov 2020, 5:22 PM IST
  • पेट्रोल पंप के लिए एनओसी जारी करने की एवज में 50 हजार रुपए की घूस लेते पकड़े गए थे दो अधिकारी. एसीबी ने जयपुर स्थित एक अधिकारी के घर में सर्च अभियान चलाकर जब्त की राशि. अलमारी के बेस में गोपनीय तरीके से बने लॉकर में छिपा रखी थी इतनी बड़ी रकम.
जयपुर में तकनीकी सहायक के घर से बरामद रुपए

जयपुर. भ्रष्टाचार निरोधक ब्यूरो (एसीबी) ने पेट्रोल पंप के लिए एनओसी जारी करने की एवज में 50 हजार रुपए की घूस लेते पकड़े गए सड़क परिवहन और राजमार्ग मंत्रालय के अधीक्षण अभियंता दानसिंह और तकनीकी सहायक सीताराम वर्मा को गिरफ्तार करने के बाद शुक्रवार को तकनीकी सहायक के घर में सर्च अभियान चलाया. भ्रष्टाचार निरोधक ब्यूरो टीम को तकनिकी सहायक सीताराम वर्मा के घर पर 47 लाख 77 हजार रुपए की नकदी मिली. वर्मा ने यह रकम घर में एक अलमारी के बेस में गोपनीय तरीके से बने लॉकर में छिपा रखी थी. इस रकम को भ्रष्टाचार निरोधक ब्यूरो ने सीज कर लिया है. इतने नोटों को गिनने के लिए एसीबी को मशीन मंगवानी पड़ी.

कमजोर परिणाम वाले आरटीओ, डीटीओ एक माह में सुधार करें : खाचरियावास

भ्रष्टाचार निरोधक ब्यूरो के अतिरिक्त पुलिस महानिदेशक दिनेश एमएन ने बताया कि सड़क परिवहन और राजमार्ग मंत्रालय के तकनीकी सहायक सीताराम वर्मा के जयपुर स्थित चार मंजिला मकान में शुक्रवार को सर्च अभियान चलाया था. इसमें एक अलमारी के बेस में गोपनीय तरीके से बने लॉकर में छिपे करीब पौन 48 लाख रुपए मिले, जिनके बारे में संतोषजनक जवाब नहीं देने पर पैसे सीज कर दिए गए. सर्चिंग के दौरान वर्मा के घर से तीन लग्जरी कारें भी मिली हैं. उनका रजिस्ट्रेशन नंबर चेक किया जा रहा है. इसके अलावा कई प्लाट के दस्तावेज और कई बैंक अकाउंट होने की भी जानकारी सामने आई है. भ्रष्टाचार निरोधक ब्यूरो को सीताराम वर्मा के घर से एक लॉकर की चाबी मिली है. इस लॉकर को भी एसीबी खुलवाएगी. माना जा रहा है कि इस लॉकर से भी गहने और नकद बरामद होगी.

सीताराम को इतनी आय कहां से अर्जित हुई, इस संबंध में वह कोई ठोस जवाब नहीं दे सका। गौरतलब है कि भ्रष्टाचार निरोधक ब्यूरो ने गुरुवार दोपहर में अजमेर रोड स्थित सड़क परिवहन और राजमार्ग मंत्रालय के कार्यालय में दबिश देकर एक्सईएन दान सिंह मीणा और तकनीकी सहायक सीताराम वर्मा को 50 हजार रुपए की रिश्वत लेते गिरफ्तार किया था. इन दोनों के खिलाफ बुधवार को बीकानेर के रहने वाले एक व्यक्ति ने शिकायत दर्ज करवाई थी. शिकायत में कहा गया था कि बीकानेर के नोखा में हाईवे पर उसके पेट्रोल पंप के लिए एनओसी देने की एवज में 50 हजार रुपए की रिश्वत मांगी जा रही है. शिकायत का सत्यापन करने के बाद एसीबी की टीम ने नोजना बनाकर रिश्वत के 50 हजार रुपए लेते हुए दोनों को धर-दबोचा.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें