राजस्थान पुलिस भर्ती परीक्षा का पेपर लीक करवाने के नाम पर ठगी, एक गिरफ्तार

Smart News Team, Last updated: 03/11/2020 12:35 PM IST
  • आरोपी नेशनल डिफेंस एकेडमी के नाम से कोचिंग खोलकर बेरोजगार युवकों को भर्ती परीक्षाओं में पेपर उपलब्ध करवाने व नौकरी लगवाने का झांसा देकर ठगी करता है. आरोपी वर्तमान में आईटीबीपी से बर्खास्त चल रहा है.  
राजस्थान पुलिस कांस्टेबल भर्ती परीक्षा पेपर लीक करवाने के नाम पर चल रही थी ठगी

जयपुर: जयपुर ग्रामीण जिले के विराटनगर थाना पुलिस और जिला स्पेशल टीम (डीएसटी) ने पुलिस कांस्टेबल भर्ती परीक्षा का पेपर लीक करवाने के नाम पर ठगी करने वाले गिरोह का खुलासा किया है. पुलिस एक आरोपी को हिरासत में लेकर पूछताछ कर रही है. पूछताछ में गिरोह के अन्य सदस्यों सहित कई जानकारियां मिलने की संभावना जताई जा रही है.

 जयपुर जिला पुलिस अधीक्षक शंकर दत्त शर्मा ने बताया कि पुलिस कांस्टेबल भर्ती को लेकर युवाओं को नौकरी दिलवाने का झांसा देकर ठगी करने वाले गिरोह पर पुलिस विशेष निगरानी रख रही है. मुखबिर की सूचना पर जिले के विराटनगर थाना पुलिस और जिला स्पेशल टीम (डीएसटी) द्वारा पुलिस कांस्टेबल भर्ती परीक्षा का पेपर लीक करवाने के नाम पर ठगी करने वाले गिरोह के राजेन्द्र प्रसाद मीणा को हिरासत में लिया गया है.

राजस्थान में पटाखों की बिक्री व आतिशबाजी पर रोक

 उससे पूछताछ की जा रही है. विराटनगर थानाधिकारी राजेन्द्र सिंह राठौड़ ने बताया कि आरोपी नेशनल डिफेंस एकेडमी के नाम से कोचिंग खोलकर बेरोजगार युवकों को भर्ती परीक्षाओं में पेपर उपलब्ध करवाने व नौकरी लगवाने का झांसा देकर ठगी करता है. आरोपी वर्तमान में आईटीबीपी से बर्खास्त चल रहा है. आरोपी के खिलाफ सौरभ मीणा निवासी वार्ड नम्बर 11 शाहपुरा ने थाने में मामला दर्ज करवाया था कि वह बेरोजगार है और राजस्थान पुलिस कांस्टेबल भर्ती परीक्षा की तैयारी कर रहा है. पीड़ित 28 अक्टूबर को अपने दोस्त के साथ नेशनल डिफेंस एकेडमी में पुलिस कांस्टेबल भर्ती की तैयारी करने के लिए एडमिशन के लिए गया था. 

वहां के संचालक राजेन्द्र प्रसाद मीणा द्वारा उसे पुलिस कांस्टेबल भर्ती परीक्षा का पेपर समय से दो घंटे पूर्व उपलब्ध करवाने व नौकरी लगाने का सौदा छह लाख रुपये में तय हुआ था. इस पर आरोपित ने बतौर एडवांस एक लाख बीस हजार रुपये ले लिए और बाकी के शेष रुपए चयन होने पर देना तय हुआ. इसके बाद पीड़ित ने जब आरोपी के बारे में जानकारी की तो पता चला कि वह बेरोजगार युवकों से नौकरी लगाने का झांसा देकर ठगी की है.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें