गजेंद्र सिंह शेखावत का वॉयस सैंपल कोर्ट में होगा जमा, ऑडियो लीक केस में निर्देश

Smart News Team, Last updated: Thu, 8th Jul 2021, 12:54 PM IST
  • राजस्थान ऑडियो लीक कांड में गजेंद्र सिंह शेखावत की मुश्किलें बढ़ सकती हैं. जयुपर के एक कोर्ट ने शेखावत और संजय जैन की आवाज के सैंपल जमा करने का निर्देश दिया है.
गजेंद्र सिंह शेखावत की मुश्किलें बढ़ी, कोर्ट में जमा करना होगा वॉयस सैंपल.

जयपुर. चीफ मेट्रोपॉलिटियन मजिस्ट्रेट (सीएमएम) ने पिछले साल लीक हुए ऑडियो टैप मामले में गजेंद्र सिंह शेखावत और  संजय जैन की आवाज के सैंपल लेने के निर्देश जारी किए हैं. लीक ऑडियो में राजस्थान की सत्तारूढ़ अशोक गहलोत सरकार को गिराने और विधायकों के खरीद-फरोख्त की बात हो रही थी. इस ऑडियो को लेकर राजस्थान के राजनीतिक गलियारों में काफी उथल-पुथल मच गई थी. लीक ऑडियो में सत्तारूढ़ अशोक गहलोत की सरकार को गिराने और विधायकों के खरीद-फरोख्त की बात की गई थी. 

एंटी करप्शन ब्यूरों के एक वरिष्ठ अधिकारी के अनुसार ब्यूरो ने 30 जून के आसपास अदालत में याचिका दायर कर शेखावत और संजय जैन की आवाज के सैंपल एकत्र करने की परमिशन मांगी थी. इसके बाद सीएमएम कोर्ट ने बुधवार को सुनवाई की. सुनवाई में कोर्ट ने सैंपल इकठ्ठा करने की परमिशन दे दी है. इसी के साथ रेंट कंट्रोल ट्रिब्यूनल के मजिस्ट्रेट को सैंपल कलेक्ट करने का आदेश दिया है. एंटी करप्शन ब्यूरों के अधिकारी का कहना है कि मजिस्ट्रेट जल्द ही शेखावत और संजय जैन को अदालत में पेश होने और आवाज के सैंपल देने के लिए नोटिस जारी करेंगे. नोटिस एसीबी की तरफ से भेजा जाएगा. 

राज्य कर्मिकों की योजनाओं को पूरा करने के लिए कर्मचारी कल्याण कोष का होगा गठन

मुख्यमंत्री के विशेष कार्य अधिकारी लोकेश शर्मा के खिलाफ 25 मार्च को गजेंद्र सिंह शेखावत फोन टैपिंग के आरोप में शिकायत दर्ज कराई गई थी. इसके बाद लोकेश शर्मा कोर्ट अपने खिलाफ दर्ज एफआईआर को रद्द कराने गए. जिसके बाद 3 जून को दिल्ली हाईकोर्ट ने उनपर किसी भी तरह की कार्ऱवाई करने से रोक लगा दी.  

फोन टैपिंग विवाद पिछले साल जुलाई में राजस्थान में शुरू हुआ था. टेलीफोन पर बातचीत की ऑडियो वायरल हो गई थी जिसमें मुख्यमंत्री अशोक गहलोत की सरकार को गिराने पर बात की गई थी. 

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें