कोचिंग विद्यार्थियों का ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन तैयार करेगी सरकार, सीएम ने दी मंजूरी

Smart News Team, Last updated: Fri, 2nd Apr 2021, 6:40 PM IST
  • राजस्थान में प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारी करने वाले विद्यार्थियों का राज्य सरकार द्वारा एक ऑनलाइन रजिस्टर तैयार किया जाएगा जिसके लिए मुख्यमंत्री गहलोत ने मंजूरी दे दी है.
कोचिंग विद्यार्थियों का ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन तैयार करेगी सरकार (प्रतीकात्मक तस्वीर)

जयपुर: प्रदेश में मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने शुक्रवार को इस प्रोजेक्ट के प्रस्ताव को मंजूरी दे दी है. स्टूडेंट रजिस्टर बनाने का काम राजकॉम्प इन्फो सर्विसेज लिमिटेड (आरआईएसएल) द्वारा किया जाएगा. प्रोजेक्ट की अनुमानित लागत करीब 68 लाख रूपए है. प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारी करने वाले विद्यार्थियों के ऑनलाइन रजिस्टर तैयार करने का काम देशभर में कोचिंग हब के रूप में विख्यात कोटा शहर में इंजीनियरिंग व मेडिकल स्टूडेंट्स से होगी. इसके बाद इसी तरह के स्टूडेंट रजिस्टर प्रदेश के कोचिंग संस्थानों वाले अन्य शहरों के लिए भी तैयार किए जाएंगे. विद्यार्थियों का विवरण उपलब्ध होने पर कोविड-19 के संक्रमण जैसी परिस्थितियों में इन प्रवासियों के लिए आवश्यक व्यवस्थाओं का प्रबंधन करना आसान हो सकेगा.

राजस्थान में पर्यटकों के लिए आज से वन्य-जीवों का दीदार करना हुआ महंगा

गहलोत के इस निर्णय के बाद कोटा शहर में कोचिंग कर रहे करीब दो लाख विद्यार्थियों का डेटाबेस तैयार किया जाएगा, ताकि राज्य सरकार के पास प्रदेश में रह रहे इन प्रवासियों की सही संख्या और व्यक्तिगत विवरण का रिकॉर्ड उपलब्ध हो सकेगा.

स्टूडेंट्स की समस्याओं व शिकायतों का होगा समाधान

सूचना प्रौद्योगिकी एवं संचार विभाग की ओर से प्राप्त प्रस्ताव के अनुसार, स्टूडेंट डेटाबेस तैयार करने का उद्देश्य सभी कोचिंग विद्यार्थियों के लिए वेब पोर्टल और मोबाईल एप तैयार करना है, जिसमें विद्यार्थियों के स्थायी पते व परिजनों के विवरण के साथ-साथ, कोचिंग संस्थान, हॉस्टल, पेइंग गेस्ट, प्राइवेट स्टे-होम, मेस आदि सुविधाओं की जानकारी भी दर्ज होगी. इस पोर्टल के माध्यम से विद्यार्थियों को कोचिंग, आवास व खाने-पीने से जुड़ी समस्याओं व शिकायतों को दर्ज करने एवं इनके निस्तारण की सुविधा दी जाएगी.

सीएम गहलोत ने जनता को चेताया, दूसरी लहर में अधिकांश कोरोना मरीज बिना लक्षण वाले

पढ़ाई के साथ आवश्यक सूचनाएं व संदेश भी भेजे जा सकेंगे

स्टूडेंट रजिस्टर का उपयोग अभिभावकों को विद्यार्थियों के क्लास शेड्यूल व कोचिंग संस्थान में उनकी उपस्थिति एवं अनुपस्थिति के बारे में सूचित करने के लिए किया जा सकेगा. विशेष परिस्थितियों में डेटाबेस में दर्ज फोन नंबर पर आवश्यक सूचनाएं और संदेश भेजे जा सकेंगे. स्थानीय प्रशासन इस डेटाबेस का उपयोग संबंधित शहर में संपूर्ण कोचिंग व्यवस्था के बेहतर प्रबंधन और शहर तथा क्षेत्र विशेष की विकास योजनाओं की प्लानिंग के लिए भी करेगा.

 

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें