जयपुर: बच्चा गोद लेना चाहती थी पत्नी, पति ने सुपारी दे करवाई हत्या, अरेस्ट

MRITYUNJAY CHAUDHARY, Last updated: Mon, 4th Oct 2021, 8:03 PM IST
  • जयपुर में पत्नी के बच्चा गोद लेने की बात कहने और बच्चा गोद नहीं लेने पर पत्नी के तीसरी शादी की धमकी से परेशान होकर पति ने उसकी सुपारी देकर हत्या करवा दी. पत्नी ने पत्नी की हत्या के लिए 2.50 लाख रुपए की सुपारी दिया था. आरोपी पति समेत अन्य अपराधियों को जयपुर पुलिस ने अरेस्ट कर लिया है.
बच्चा गोद लेने की बात कहने पर पति ने सुपारी देकर पत्नी, की करवा दी हत्या

जयपुर. जयपुर पुलिस ने एक ऐसे पति को गिरफ्तार किया है जिसने अपनी पत्नी हत्या 2.50 लाख रुपए सुपारी देकर करवाई है. वहीं पुलिस ने इस मामले में बताया कि पति पत्नी के बीच बच्चा गोद लेने के विवाद बढ़ने के बाद पत्नी ने पत्नी की हत्या करवा दी. साथ ही पत्नी ने बच्चा गोद नहीं लेने पर तीसरी शादी की धमकी भी दिया था. जिसके चकते भी पति ने उसकी हत्या करवा दी. पुलिस ने बताया कि पति बच्चा गोद लेने के पक्ष में नहीं था.

पुलिस ने आगे बताया कि मृतिका महिला के पति की मौत के बाद उसकी नौकरी दिल्ली में डिस्कॉम में लग गई. जहां पर उसकी पहचान आरोपी बाबूलाल मीणा से हुई. जिसके बाद दोनों 4 साल तक लिवइन में रहने के बाद शादी कर लिया. इस दौरान दोनों ने मिलकर दिल्ली और नजमगढ़ में फ्लैट ले लिया. पुलिस ने आगे बताया कि पिछले डेढ़ महीने पहले महिला ने आरोपी से अपने चाचा के परिवार से बच्चा गोद लेने के लिए कहा था. जिसके बाद दोनों में विवाद शुरू हो गया.इसपर महिला ने किसी अन्य युवक के साथ शादी करने की बात कही थी. 

Rajasthan: कोरोना काल में 1342 ग्राम पंचायतों में मनरेगा के तहत नहीं मिला रोजगार, रिपोर्ट तलब

पति पत्नी के बीच विवाद बढ़ने पर पति ने महिला की हत्या की योजना बनाई. जिसके चलते उसने पत्नी की हत्या के लिए 2.50 लाख रुपए की सुपारी दे दी. महिला की हत्या के लिए तीन बार प्रयास किया लेकिन वह सफल नहीं हुए. जिसके बाद आरोपी पति ने किसी काम के बहाने महिला को राजस्थान लाया और उसकी हत्या करके उसका शव चौमूं के पास पुलिया से नीचे फेंक दिया. साथ ही हत्या सुसाइड लगे इसके लिए उसने सुसाइड नोट भी छोड़ दिया. पुलिस ने जब पूरे मामले की जांच की तो पूरा मामला सामने आया. जिसके बाद पुलिस ने आरोपी पति समेत उसका इन सबमे साथ देने वाले बदमाशों को गिरफ्तार कर लिया है.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें