जयपुर : राजस्थान में पहले चरण में साढ़े चार लाख हेल्थ वर्कर्स को लगेगी कोविशिल्ड

Smart News Team, Last updated: 10/01/2021 02:36 PM IST
  • राजस्थान के चिकित्सा मंत्री डॉ. रघु शर्मा ने बताया कि प्रदेश में कोरोना वैक्सीनेशन का प्रथम चरण 16 जनवरी से प्रारंभ हो रहा है. राज्य में कोविड वैक्सीन स्टोर के 3 राज्य स्तरीय व 7 संभाग स्तरीय व 34 जिला स्तरीय वैक्सीन स्टोर गनाए गए हैं. प्रत्येक जिले में एक वैक्सीन वैन भी उपलब्ध रहेगा.
वैक्सीनेशन की तैयारियों की जानकारी देते चिकित्सा शिक्षा मंत्री डॉ. रघु शर्मा

जयपुर. राजस्थान के चिकित्सा मंत्री डॉ. रघु शर्मा ने बताया कि प्रदेश में 16 जनवरी से प्रारंभ होने वाले कोरोना वैक्सीसनेशन के प्रथम चरण में करीब 4.5 लाख हेल्थकेयर वर्कर्स को शामिल किया गया है, जिन्हें कोविशील्ड वैक्सीन लगाई जाएगी। उन्होंने बताया कि 282 सेशन साइट पर प्रथम चरण का वैक्सीनेशन होगा. वैक्सीनेशन के लिए चिकित्सा विभाग ने सभी तैयारियां पूर्ण कर ली हैं. डॉ. शर्मा ने बताया कि कोविड वैक्सीन का भंडारण एयर कनेक्टिविटी वाले तीन जिलों जयपुर, उदयपुर व जोधपुर में किया जाएगा. यहां वैक्सीन को 2 से 8 डिग्री के मध्य रखने की व्यवस्था की गई है. 

वैक्सीनेशन के लिए मुख्य सचिव द्वारा सभी जिला कलक्टर्स एवं अन्य जिला स्तरीय अधिकारियों के साथ तैयारियों की समीक्षा के लिए वीडियो कॉन्फ्रेन्स की जा चुकी है. साथ ही राज्य स्तर पर शासन सचिव चिकित्सा एवं स्वास्थ्य विभाग की अध्यक्षता में स्टेट टास्क फोर्स की बैठक भी आयोजित की गई थी. चिकित्सा मंत्री ने बताया कि राज्य में कोविड वैक्सीन स्टोर के 3 राज्य स्तरीय व 7 संभाग स्तरीय व 34 जिला स्तरीय वैक्सीन स्टोर हैं. सामुदायिक एवं प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्रों पर 2,444 कोल्ड चेन पॉइन्ट्स कार्यशील हैं. प्रत्येक जिले में एक वैक्सीन वैन भी उपलब्ध है. उन्होंने बताया कि वैक्सीनेशन के दौरान किसी भी प्रतिकूल प्रभाव से बचाव के लिए वैक्सीनेशन केंद्रों पर 104 व 108 एंबुलेंस की सुविधा भी उपलब्ध रहेगी.

कर्ज से डूबे शख्स ने पत्नी और बच्चों को मौत के घाट उतारा, फिर खुद लगाई फांसी 

स्वास्थ्य मंत्री ने बताया कि प्रथम चरण में 3689 चिकित्सा संस्थानों एवं 2969 निजी क्षेत्र के चिकित्सा संस्थानो को वैक्सीनेशन के लिए चिन्हित किया गया है. इनमें से 3736 चिकित्सा संस्थानों को सत्र स्थल के रूप में कोविन सॉफ्टवेयर अपलोड कर दिया गया है. चिकित्सा मंत्री ने बताया कि सभी वैक्सीनेशन सत्र स्थलों पर टीकाकरण के पश्चात होने वाले संभावित प्रतिकूल प्रभाव के इलाज की व्यवस्था सुनिश्चित की गई है.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें