इंदौर: चोरी की योजना बना रहे थे शातिर अपराधी, तभी कुछ ऐसा हुआ...

Smart News Team, Last updated: 16/09/2020 08:41 PM IST
  • इंदौर. मुखबिर की सूचना पर क्राइम ब्रांच व जूनी इंदौर पुलिस ने घेराबंदी कर शातिरों को किया गिरफ्तार. 12 वर्षों से चोरी की घटनाओं सहित लूट डकैती मारपीट की घटना को दे रहे थे अंजाम.
प्रतीकात्मक तस्वीर 

इंदौर। इंदौर के जूनी पुलिस ने चोरी की योजना बना रहे 4 आरोपितों को घेराबंदी कर गिरफ्तार कर जेल भेज दिया. यह चारों आरोपित माणिकबाग ब्रिज के नीचे पटरी पर बैठ कर चोरी की योजना बना रहे थे. मुखबिर की सूचना पर पहुंची पुलिस ने चारों को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया. पुलिस ने गिरफ्तार कर आरोपितों से कई घंटे तक पूछताछ की. इस दौरान आरोपियों ने कई बड़े खुलासे किए.

इंदौर पुलिस ने क्राइम ब्रांच पुलिस के साथ मिलकर चोरी की योजना बना रहे युवकों को गिरफ्तार किया है. इस दौरान चार आरोपी गिरफ्तार किए गए हैं, जिनमें पाटनीपुरा के बेकरी वाली गली के 30 वर्षीय राहुल उर्फ छोटू को गिरफ्तार किया गया है. वहीं मालवा मिल क्षेत्र के किशन कश्यप के बेटे बबलू को भी पुलिस ने गिरफ्तार कर जेल भेज दिया. इसके अलावा दो अन्य शातिर अपराधी भी चोरी की योजना बनाने में शामिल थे.

इसमें परदेशीपुरा क्षेत्र के सुनील राठी का 22 वर्षीय बेटा लोकेश उर्फ़ शुभम भी शामिल था. वहीं पाटनीपुरा में रहने वाले ओमप्रकाश का 25 वर्षीय पुत्र नीलेश भी चोरी की योजना बनाने में शामिल था. इन सभी आरोपितों ने पूछताछ के दौरान पुलिस को चोरी की योजना बनाए जाने की बात कबूल की. इसके अलावा उन्होंने अन्य चोरियों का भी खुलासा किया. दरअसल जब यह चारों माणिकबाग ब्रिज के नीचे चोरी की योजना बना रहे थे तो इसकी सूचना मुखबिर ने पुलिस को दी.

इंदौर: गरीबों के दिल का नि:शुल्क उपचार करेगा ट्रस्ट, अस्पताल की लागत 100 करोड़

जहां मौके पर पहुंची पुलिस ने घेराबंदी कर लिया. इसके बाद चारों आरोपित भागने में नाकाम रहे. पुलिस ने चारों को गिरफ्तार कर लिया. आरोपी राहुल ने बताया कि लॉकडाउन के समय एक वृद्ध के घर में कूदकर मोबाइल व नगदी की चोरी की घटना को अंजाम दिया था. उसने आगे बताया कि विगत 12 वर्षों से वह चोरी डकैती व छिनैती जैसी कई घटनाओं को अंजाम दे चुका है. उसने बताया कि 1 दर्जन से अधिक उसने चोरियां की है. इसके अलावा नकबजनी, लूट, डकैती, मारपीट, आर्म्स एक्ट व अन्य अपराध भी उसने किए हैं. नीलेश पर भी अब तक 7 अपराध दर्ज किए जा चुके हैं.

 

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें