राजस्थान के सियासी संग्राम की जांच शुरू, अजय माकन जयपुर से अजमेर पहुंचे

Smart News Team, Last updated: 09/09/2020 09:19 PM IST
  • राजस्थान के कांग्रेस की गहलोत सरकार में एक महीने से ज्यादा समय तक चले सियासी संग्राम की जांच के लिए राजस्थान प्रभारी बनाए गए कांग्रेस नेता अजय माकन जयपुर पहुंच गए है. वे आज दिनभर अजमेर दौरे पर रहेंगे. जहां पर सम्भाग के सभी जिलों के कांग्रेसी नेताओं से मुलाकात करेंगे.
अजय माकन

राजस्थान कांग्रेस के प्रदेश प्रभारी अजय माकन देर रात रात जयपुर पहुंचे. आज से कांग्रेसियों के साथ अलग- अलग फीडबैक बैठक करेंगे. पहले दिन माकन का अजमेर में संवाद कार्यक्रम है. जिसमें पार्टी नेताओं के साथ फीडबैक बैठक करेंगे. इस दौरान पीसीसी चीफ गोविंद डोटासरा और चिकित्सा मंत्री रघु शर्मा उनके साथ मौजूद रहेंगे. अजय माकन जयपुर संभाग के हर जिले के नेताओं से भी बात करेंगे.

माकन इन बैठकों के जरिए संगठन काे कैसे मजबूत बनाया जाए तथा गहलोत सरकार की योजनाओं को धरातल पर और मजबूती से कैसे ला जाएं, इन सब मुद्दों पर विचार करेंगे. इसके लिए आज वो अजमेर पहुंच गए है. जहां कांग्रेसी नेताओं ने माकन का जोरदार स्वागत किया है. अब माकन कांग्रेसियों से बात करेंगे कि राज्य सरकार जनहित में और क्या-क्या काम कर सकती है ताकि कांग्रेस कार्यकर्ता का ग्राउंड पर मान-सम्मान बढ़े. 30 अगस्त को अजय माकन फीडबैक बैठक करने जयपुर पहुंचे थे. दो दिन बैठक करने के बाद प्रणब मुखर्जी के निधन के कारण वे दिल्ली लौट गए थे. अब फीडबैक बैठक फिर से शुरू होगी.

माकन अपने दौरे में प्रत्येक जिले से 50 या इससे अधिक लोगों के साथ फीडबैक बैठक करेंगे. इन 50 लोगों में विधायक, पूर्व विधायक, विधायक प्रत्याशी, संगठन पदाधिकारी, अग्रिम संगठनों के पदाधिकारी, सांसद प्रत्याशी व प्रमुख कांग्रेसी नेता शामिल रहेंगे. इनसे बात करके माकन प्रदेश कांग्रेस और सरकार के लिए बेहतर वर्किंग मॉडल का एक प्लान तैयार करेंगे.

इस प्लान में कांग्रेस कार्यकर्ताओं काे और बेहतर सम्मान, कार्यकर्ताओं द्वारा प्रदेशभर में कांग्रेस की छवि को अच्छा और मजबूत बनाने सहित तमाम बिंदुओं पर काम हाेगा. साथ ही पार्टी में किस तरह से गुटबाजी को खत्म किया जाए ये मुद्दे भी रहेंगे. इन सब फीडबैक बैठकों का ब्योरा भी कांग्रेस आलाकमान तक पहुंचाया जाएगा. माकन से मिलने के लिए संबंधित नेताओं को सूचना पहले ही भेज दी गई है.

 

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें