जयपुर एयरपोर्ट से जा सकेंगे दिल्ली, मुंबई समेत 23 शहर, 70 से अधिक फ्लाइटें रोजाना

Mithilesh Kumar Patel, Last updated: Tue, 9th Nov 2021, 8:55 PM IST
  • जयपुर इंटरनेशनल एयरपोर्ट से दिल्ली, मुंबई समेत देश के 23 प्रमुख शहरों के लिए सीधी फ्लाइट्स उपलब्ध है. लंबे समय बाद पिंक सिटी में स्थित इस एयरपोर्ट से रोजाना बड़े शहरों के लिए उड़ान भरने वाली फ्लाइट्स की संख्या 70 से अधिक की गई है.
प्रतीकात्मक फोटो

जयपुर. राजस्थान के जयपुर इंटरनेशनल एयरपोर्ट से मुंबई, दिल्ली समेत 23 बड़े शहरो के लिए रोजाना 70 से अधिक फ्लाइट्स उड़ान भरने जा रही हैं. कोरोना मामलों की संख्या में गिरावट के कारण एक बार फिर से यात्रियों को राहत मिलने वाली है. इसी के साथ ही पहले की अपेक्षा अब जयपुर से और अधिक फ्लाइट्स के उड़ान भरने की उम्मीद की जा रही है. इसके आलावा सूबे के अन्य एयरपोर्ट से भी देश के अलग-अलग शहरों के लिए फ्लाइट्स उड़ान भरने जा रही है.

गौरतलब हो जयपुर जिले में स्थित एयरपोर्ट जो राजस्थान का सबसे बड़ा इंटरनेशनल एयरपोर्ट है. कोरोना महामारी के मुश्किल दौर में जयपुर इंटरनेशनल एयरपोर्ट छोड़ बाकी सूबे के अन्य एयरपोर्ट से उड़ाने पूरी तरह ठप हो गई थी. ऐसे विपरीत समय में केवल पिंक सिटी जयपुर से 5 से 8 फ्लाइटें ही उड़ाने भरा करती थी मगर जैसे जैसे कोरोना से राहत मिलती गई धीरे धीरे करके और शहरों की एयरपोर्ट से आवाजाही के लिए उड़ानो की संख्या में इजाफा होने लगा. मौजूदा समय में कोरोना मामलों में काफी गिरावट देखने को मिल रही है ऐसे में जयपुर इंटरनेशनल एयरपोर्ट से रोजाना उड़ान भरने वाली फ्लाइटों की संख्या में बढ़ गई है और अब यह संख्या 70 के पार भी पहुंच गई है.

राजस्थान में डेंगू का हाहाकार, जयपुर SMS अस्पताल में मौत का आंकड़ा 50 पार

जयपुर के अलावा सूबे में स्थित बाकी एयरपोर्ट से भी उड़ान भरने वाली फ्लाइट की संख्या में बढ़ोत्तरी हुई है. मिली जानकारी के मुताबिक लेक सिटी उदयपुर से एक सप्ताह में देश के प्रमुख 7 शहरों के लिए 128 फ्लाइट्स उड़ान भरने लगी है. इसके आलावा सप्ताह में जैसलमेर से 5 शहरों के लिए 31 फ्लाइट्स, जोधपुर से 10 शहरों के लिए 109 फ्लाइट्स और किशनगढ़ से 6 शहरों के लिए सप्ताह में 32 फ्लाइट्स, बीकानेर से सिर्फ 1 शहर के लिए 4 फ्लाइटें उड़ान भर रही है. बताया जा रहा है कि अब किशनगढ़ से भी देश के 6 शहरों तक हवाई यात्रा के लिए कनेक्टिविटी बन गई है.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें