जयपुर: एन्टी करप्शन ब्यूरो की टीम ने लाइन हाजिर थानेदार को रंगे हाथों पकड़ा

Smart News Team, Last updated: 12/08/2020 06:41 PM IST
  • जयपुर. रिश्वत लेते एन्टी करप्शन ब्यूरो की टीम के गिरफ्तार करने पर कर दिया था एपीओ. सांसद की शिकायत पर साढ़े चार लाख की रिश्वत लेते किया था गिरफ्तार.
प्रतीकात्मक तस्वीर

जयपुर. रिश्वत के मामले में लाइन हाजिर चल रहे एक थानेदार को एन्टी करप्शन ब्यूरो की टीम ने 11 लाख 36 हजार रुपए कैश और महंगी अंग्रेजी शराब की 21 बोतलें ले जाते पकड़ लिया. थानेदार को तीन दिन पहले ही रिश्वत के मामले में एपीओ किया गया था. एपीओ थानेदार लाखों रुपए की नगदी और महंगी शराब की बोतलें लेकर नागौर जिले से अजमेर जिले में स्थित अपने घर आ रहा था. इसी दौरान उसे एसीबी ने दबोच लिया. उसकी कार की चैकिंग की गयी तो कार से कैश और शराब मिला. जब एसीबी ने सख्ती से पूछताछ की तो वह सही जबाब नहीं दे सका. इस पर एसीबी ने उसे हिरासत में ले लिया.

आबकारी विभाग भी करेगा कार्रवाई

एपीओ थानेदार के पास महंगी शराब की बोतले मिली है. इसकी सूचना एसीबी ने आबकारी विभाग को भी दे दी है. अब आबकारी विभाग भी उसके खिलाफ कार्रवाई की तैयारी में है. क्योंकि एपीओ थानेदार के पास तय स्टाक से ज्यादा शराब एक साथ बरामद हुई है. शराब की कीमत भी लाखो रुपए की बताई जा रही है.

सांसद की शिकायत पर साढ़े चार लाख की रिश्वत लेते किया था गिरफ्तार

खींवसर थानाधिकारी के पद पर रहते हुए केशर सिंह ने एक पूर्व सरपंच को अफीम के झूठे मामले में फंसाने की कोशिश की थी और इस मामले में उससे चार लाख पचास हजार रुपए भी मांगे थे. पूर्व सरपंच ने इस बारे में जब नागौर से सांसद हनुमान बेनीवाल को बताया तो बेनीवाल ने इस बारे में पुलिस मुख्यालय के अधिकारियों से बातचीत की. पुलिस मुख्यालय की विजिलेंस टीम ने अपने स्तर पर जांच की तो पाया कि केशर सिंह ने गडबड़ की है. इस पर केशर सिंह को तीन दिन पहले ही एपीओ किया गया था. उसके इस मामले की जांच भी जल्द ही शुरू की जानी थी. एपीओ कर उसे नागौर पुलिस लाइन भेजा गया था. लाइन में ड्यूटी देने से पहले उसने अपने रिश्वत के रुपए घर रखने की तैयारी की और एसीबी के हाथों धरा गया.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें