जयपुर: पानी की धार में नाले में बहा बोलेरो, प्रॉपर्टी डीलर समेत तीन की मौत

Smart News Team, Last updated: 15/08/2020 09:08 AM IST
  • गाड़ी चला रहे प्रॉपर्टी डीलर रामप्रताप, उनकी पत्नी पारी देवी और 2 वर्षीय पोते कान्हा की मौत. प्रापर्टी डीलर के परिवार के छह सदस्य बोलेरो में थे सवार.
प्रतिकात्मक चित्र 

जयपुर. जयपुर के कानोता में एक बोलेरो नाले में बह गई. जिसमें सवार एक ही परिवार के तीन लोगों की मौत हो गई जबकि 3 लोगों को स्थानीय लोगों ने किसी तरह बचा लिया. मौके पर पहुंची पुलिस ने शव को कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया है.

ज्ञात हो कि एक कि उक्त बोलेरो में एक प्रापर्टी डीलर के परिजन सवार थे.

मिली जानकारी के अनुसार जयपुर में शुक्रवार को आई भारी बारिश में कानोता बांध के पास उफनते नाले की पुलिया पार कर रही बोलेरो पानी में बह गई. बोलेरो में जामडोली के एक प्रॉपर्टी डीलर के परिवार के 6 सदस्य सवार थे. मौके पर मौजूद लोगों ने हिम्मत दिखाते हुए पानी में डूबी बोलेरो में फंसे परिवार को निकाल लिया, लेकिन तब तक प्रॉपर्टी डीलर, उसकी पत्नी और 2 वर्षीय पौत्र की मौत हो गई। तीन को बचा लिया गया.

पुलिस और प्रत्यक्षदर्शियों के मुताबिक हादसा शाम 4 बजे हुआ. सुबह हुई भारी बारिश के बाद एलएनएमआईआईटी कॉलेज से थोड़ा पहले जलमहल की तरफ से कानोता बांध में आने वाला नाला उफान पर था.

सड़क किनारे काफी लोग वाहन रोक पानी कम होने का इंतजार कर रहे थे. तभी जामडोली निवासी रामप्रताप (50) परिवार सहित बोलेरो से पहुंचे. उन्होंने बोलेरो उफनते नाले में उतार दी.

लोग मना भी करते रहे लेकिन वे नहीं रुके. पानी का बहाव इतना तेज था कि बोलेरो सड़क से फिसल कर नाले में जा गिरी. मौके पर लोग हादसे का वीडियो भी बना रहे थे. आस-पास खड़े स्थानीय लोग अपनी जान की परवाह किए बिना बोलेरो सवारों को बचाने पानी में कूद पड़े.

करीब 30 मिनट की मशक्कत कर लोगों ने बोलेरो में फंसे परिवार को निकाल तो लिया लेकिन कार चला रहे रामप्रताप उसकी पत्नी पारी देवी और 2 वर्षीय पोते कान्हा की मौत हो गई. हादसे में बोलेरो में ही सवार तीन लोगों को बचा लिया गया जिनमें रामप्रताप के रिलेटिव कल्याण, राम अनोखी देवी और एक छोटी बच्ची हैं.

रामप्रताप बारिश रुकने के बाद अपनी विवाहित भतीजी और उसकी बेटी को ससुराल छोड़ने जा रहा था. उसने पत्नी और पोते को भी साथ ले लिया. घर से करीब 4 किलोमीटर आगे जाकर ही परिवार हादसे का शिकार हो गया.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें