पटना से फर्जी परीक्षार्थी बनकर आए थे जयपुर, पुलिस ने 11 नकलचियों को पकड़ा

Smart News Team, Last updated: Fri, 6th Nov 2020, 11:18 PM IST
  • राजस्थान पुलिस कांस्टेबल भर्ती परीक्षा में शामिल होने बिहार से आए थे नकलची. फर्जी परीक्षार्थी बनकर देना था एग्जाम. परीक्षा शुरू होने से पहले ही हुलिस के हत्थे चढ़े. दिल्ली में तैनात इंस्पेक्टर रैंक के एक अधिकारी को बताया जा रहा सरगना.
पुलिस गिरफ्त में पटना से आए फर्जी परीक्षार्थी

जयपुर: राजधानी जयपुर शहर में कमिश्नरेट के नारगढ़ थाना पुलिस ने बड़ी कार्रवाई करते हुए कांस्टेबल भर्ती परीक्षा में फर्जी परीक्षार्थी बनकर एग्जाम देने वाले एक बड़े गिरोह का पर्दाफाश किया है. पुलिस ने इस मामले में 11 शातिर नकलचियों को गिरफ्तार किया है. पुलिस ने गिरोह से स्कैनर, प्रिंटर, फर्जी आधार कार्ड, फ्लाइट के टिकट समेत अन्य सामान बरामद किया है. 

पुलिस के मुताबिक इस गिरोह को जयपुर और दिल्ली में बैठे तीन आकाओं ने हायर किया था. यह गिरोह पटना से बुलाया गया था, जो राजस्थान पुलिस कांस्टेबल भर्ती परीक्षा में फर्जी परीक्षार्थी बनकर एग्जाम दे सके. फ्लाइट के जरिए गिरोह के सदस्य दिल्ली पहुंचे और यहां से तीन लग्जरी गाड़ी में बैठकर जयपुर पहुंचे. हालांकि कांस्टेबल भर्ती परीक्षा के दौरान जयपुर पुलिस की टीम मुस्तैद थी. पुलिस ने नाकाबंदी के दौरान तीन लग्जरी गाड़ियों में पूरे गिरोह को धर दबोचा. 

कांस्टेबल भर्ती परीक्षा शुरू, 3 दिन में 17 लाख से ज्यादा लेंगे भाग

अतिरिक्त पुलिस कमिश्नर क्राइम अजय पाल लांबा के मुताबिक राजस्थान में गिरोह का सरगना जयपुर का बलराम और देवी सिंह है. दोनों को दिल्ली में एक सरकारी सेवा में पदस्थापित इंस्पेक्टर रैंक के एक अधिकारी ने हायर किया था. वहीं से लाखों रुपए में सौदा कर फर्जी तरीके से कांस्टेबल भर्ती परीक्षा में बैठाने की योजना तैयार की गई. योजना के तहत गिरोह के 6 सदस्यों को फर्जी तरीके से कांस्टेबल भर्ती परीक्षा में बैठना था, लेकिन उससे पहले ही यह गिरोह पुलिस के हत्थे चढ़ गया. पूछताछ में सामने आया है कि गिरोह एक परीक्षार्थी से करीब 5 से 6 लाख रुपए एग्जाम देने के नाम पर लेता था. बहरहाल पुलिस गिरोह के सभी सदस्यों से पूछताछ कर रही है.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें