तूफान ताऊ-ते को लेकर अलर्ट, जयपुर डिस्कॉम ने बनाई आठ इमरजेंसी टीम

Smart News Team, Last updated: Tue, 18th May 2021, 1:38 PM IST
जयपुर समेत पूरे राजस्थान में ताऊ-ते को लेकर अलर्ट जारी किया गया है. अस्पतालों में बिजली सप्लाई में कोई व्यवधान नहीं हो और बिजली जाने की शिकायत मिलते ही तत्काल शुरु करने के लिए आठ इमरजेंसी टीम बनाई गई है.
प्रतिकात्मक तस्वीर 

जयपुर. चक्रवात  ताऊ-तेकी आज प्रदेश में एंट्री हो सकती है. जिन राज्यों में यह तूफान पहुंचा हैं वहां के हालात देखकर राज्य सरकार और प्रशासन अलर्ट मोड पर है. इसी को लेकर जयपुर डिस्कॉम भी अलर्ट हो गया है. डिस्कॉम में 24 घंटे कार्यरत रहने वाले 10 कंट्रोल रूम शुरु हो चुके हैं. जिन पर राउंड द क्लॉक कनिष्ठ अभियंताओं को तैनात किया गया है. साथ ही आठ आपातकालीन टीमें बनाई गई है. जो संभावित तूफान के दौरान बिजली आपूर्ति को सुचारू करेंगे. हालांकि प्राथमिकता कोविड अस्पताल, ऑक्सीजन प्लांट की रहेगी. इसके बाद सीएमआर और सचिवालय आदि क्षेत्रों में बिजली आपूर्ति करने की प्राथमिकता होगी.

 

अधीक्षण अभियंता एसके राजपूत ने बताया कि ताऊ-ते के चलते आपातकालीन परिस्थितियों में संभावित दुर्घटनाओं को रोकने और बिजली आपूर्ति को सुचारू करने के लिए कर्मचारियों को पाबंद किया गया है. शहर में 76 अस्पतालों के डीजी सेट ठीक कराएं हैं. बिजली जाने पर पहले प्राथमिकता कोविड अस्पताल और ऑक्सीजन प्लांट की होगी. करंट की मॉनिटरिंग के लिए कंट्रोल रूम में टीम बैठा दी गई है. एसई ऑफिस का कंट्रोल रूम का टेलीफोन नंबर 0141-2202762 और मोबाइल नंबर 9413391207 है. यह कंट्रोल रूम 19 मई तक संचालित होगा.

तौकते का असर: जयपुर में रिमझिम बारिश से मौसम हुआ सुहाना, प्रशासन अलर्ट मोड पर

प्रमुख शासन सचिव ऊर्जा ने सभी अधिकारियों को निर्देश देते हुए कहा है सभी वितरण निगमों, संभागों एवं सर्किल स्तर पर 24 घंटे कार्यरत रहने वाले कंट्रोल रूम की स्थापना की जाएगी. जिसमें राउंड द क्लॉक कनिष्ठ अभियंता ड्यूटी देंगे. साथ ही चीफ इंजीनियर मैटीरियल मैनेजमेंट जरूरी सामान जैसे ट्रांसफ़ॉर्मर, पोल, कंडक्टर आदि पर्याप्त मात्रा में मौजूद हो यह सुनिश्चित करेंगे. उन्होंने सभी वितरण निगमों के अधिकारियों को अपने हेडक्वार्टर पर इमरजेंसी टीम को वाहन व ज़रूरी सामान और उपकरण के साथ 24 घंटे तैयार रखने के निर्देश दिए है. यह टीम संबंधित सहायक अभियंता (ओ एंड एम) और अधिशाषी अभियन्ता (ओ एंड एम) के निर्देशन में काम करेंगे. अधिशाषी अभियंता अपने क्षेत्र के 132 ओर 220 केवी जीएसएस के नोडल अफसर होंगे और संबंधित प्रसारण निगम के अधिकारी से सामंजस्य रखेंगे. साथ ही प्रसारण निगम की आपातकालीन टीम संभाग स्तर पर गठित की जाएगी.

 

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें