जयपुर: ईडी ने नर्सिंग काउंसिल के पूर्व सदस्य महेश शर्मा व बेटे को किया गिरफ्तार

Smart News Team, Last updated: 06/09/2020 05:33 PM IST
  • जयपुर में ईडी ने बड़ी कार्रवाई को अंजाम देते हुए आय से 372 फीसदा से ज्यादा संपत्ति जमा करने के आरोपी नर्सिंग काउंसिल के पूर्व सदस्य महेश शर्मा और उनके बेटे मोहित शर्मा को गिरफ्तार कर लिया है. कोर्ट ने 10 दिन के लिए दोनों को रिमांड पर सौंप दिया है.
ईडी का लोगो

जय़पुर से इंडियन नर्सिंग काउंसिल के पूर्व सदस्य महेश चंद शर्मा और उनके बेटे मोहित शर्मा को ईडी ने गिरफ्तार कर कोर्ट से दोनों आरोपियों को पेश कर रिमांड मांगी थी. जिस पर कोर्ट ने उन्हें 10 दिनों के रिमांड पर ईडी की कस्टडी में सौंप दिया है.

केंद्रीय जांच एजेंसी प्रवर्तन निदेशालय यानी ईडी ने राजस्थान के जयपुर में एक बड़ी कार्रवाई को अंजाम देते हुए इंडियन नर्सिंग काउंसिल के पूर्व सदस्य महेश चंद शर्मा और उनके बेटे मोहित शर्मा को गिरफ्तार कर लिया है. दोनों आरोपियों को गिरफ्तार करने के बाद जयपुर स्थित स्थानीय अदालत में पेश किया गया और उसके बाद ईडी ने कोर्ट से उन दोनों आरोपियों की रिमांड मांगी. कोर्ट ने 10 दिनों की पुलिस रिमांड के लिए ईडी की कस्टडी में भेज दिया है.

ईडी के अधिकारियों के अनुसार आरोपी महेश चंद शर्मा से उनसे जुडे़ भ्रष्टाचार के तमाम मामलों में पूछताछ की जा रही है. इसके साथ ही उनके और उनसे संबंधित अन्य आरोपियों से बेनामी प्रोपर्टी के बारे में भी जानकारियां जुटाई जा रही हैं. इस मामले में कई इलेक्ट्रॉनिक सबूत और अन्य दस्तावेज सर्च ऑपरेशन के दौरान जब्त किए गए थे. जिनको लेकर ईडी की टीम पूछताछ कर रही है.

ईडी अधिकारियों की माने तो महेश चंद शर्मा पर काफी संगीन आरोप है. ये दोनों आरोपी जयपुर स्थित आरएजी अस्पताल में रहते हैं. जो जयपुर एसएमएस मेडिकल कॉलेज के हेल्थ और मेडिकल विभाग में एक नर्सिंग ट्यूटर पद पर कार्यरत हैं. एक सरकारी अधिकारी होने के साथ महेश चंद शर्मा ने पिछले कुछ सालों के अंदर ही आय से करीब 372 प्रतिशत ज्यादा संपत्ति जमा की है. इस दौरान अवैध तौर पर कई बेनामी संपत्तियां भी उन्होंने खरीदीं. इस मामले में तफ्तीश के दौरान ये जानकारी मिली थीं कि महेश चंद शर्मा ने अवैध तौर पर करीब 10 करोड़ 60 लाख रुपये अर्जित किए थे.

ईडी की टीम जब इस मामले को दर्ज करने के बाद छापेमारी कर रही थी, तब कई अवैध प्रोपर्टी सहित बेनामी संपत्तियों के बारे में जानकारी मिली थी. जिसके तमाम सबूतों को अब इकठ्ठा किए जा रहे हैं. आने वाले वक्त में उन तमाम बेनामी प्रोपर्टी और कई चल-अचल संपत्तियों को ईडी जल्द ही अटैच कर सकती है.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें