जयपुर: जालसाजों की बैंक में सेंधमारी, बिना OTP के उड़ाए 70 हजार रुपए

Smart News Team, Last updated: 16/09/2020 10:55 PM IST
  • जयपुर. रामगंज थाने में प्रकरण दर्ज कर पुलिस जांच पड़ताल कर रही है. मेहता मार्ग स्थित सूरजपोल बाजार निवासी तेजपाल गुर्जर के बैंक खाते से 14 बार ट्रांजैक्शन कर 70 हजार रुपए निकाले गए. पीड़ित ने बताया कि बैंक खाते की जानकारी व ओटीपी नहीं किया किसी से शेयर
प्रतीकात्मक तस्वीर

जयपुर। जयपुर के रामगंज थाना क्षेत्र के सूरजपोल बाजार में एक युवक के खाते से जालसाजों ने 70 हजार रुपए सेंधमारी कर उड़ा दिए. इस दौरान जालसाजों अलग-अलग ट्रांजैक्शन के जरिए 70 हजार रुपये उड़ा लिए हैं. घटना की जानकारी होने पर पीड़ित ने इसकी जानकारी स्थानीय थाने में दी. जिसके बाद पुलिस ने मुकदमा दर्ज कर जांच पड़ताल शुरू कर दी है. पुलिस ने अपने स्तर पर इसकी सूचना क्राइम ब्रांच को भी सौंप दी है. इसके अलावा पुलिस बैंक अधिकारियों से भी पूछताछ कर रही है.

मामला इंदौर के महेता मार्ग स्थित सूरजपोल बाजार के तेजपाल गुर्जर का बताया जा रहा है. तेजपाल गुर्जर का बैंक खाता कंवर नगर स्थित भारतीय स्टेट बैंक में खुला हुआ है. जिसमें पिछले कई वर्षों से वह अपने बचत का पैसा जमा कर रहे हैं. मंगलवार को सुबह जब वह उठे तो उनके मोबाइल पर कई मैसेज पड़े हुए थे. मैसेज खोलने के बाद उसमें से पैसे निकाले जाने की सूचना मिली, जिसके बाद उन्होंने इसकी सूचना स्थानीय पुलिस को दी. मौके पर पहुंची पुलिस ने घटना की जांच पड़ताल की.

जिसके बाद पुलिस ने मुकदमा दर्ज कर लिया. तेजपाल गुर्जर ने पुलिस को पूछताछ में बताया कि पिछले कई महीनों में उन्होंने किसी से भी बैंक खाते व इससे संबंधित ओटीपी की जानकारी शेयर नहीं की है. बावजूद इसके उनके खाते से जालसाजी हो गई. रात में भी वह मोबाइल अपने पास रख कर सोए थे. सुबह जगे तब खाते से पैसे निकाले जाने का मैसेज मोबाइल पर मिला.

जयपुर: दोस्त से मज़ाक करना पड़ा भारी, साथी को तीसरी मंजिल से फेंका नीचे

इसके बाद उन्होंने पुलिस को सूचना दी. मोबाइल फोन पर कुल 14 मैसेज आए हुए थे जिनमें 14 बार अलग-अलग धनराशि का ट्रांजैक्शन किया गया था.हर बार खाते से 5000 रुपये की धन निकासी की गई थी. कुल 70000 रुपए खाते से निकाल लिए गए. इस बात की जानकारी खाता धारक को खुद ही नहीं है. तेजपाल गुर्जर ने इसकी सूचना बैंक अधिकारियों को भी दी है. बैंक अधिकारी व पुलिस जालसाजी की घटना का पता लगा रहे हैं.

 

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें