जयपुर: राजस्थान में गहलोत सरकार अधर में लटकी

Smart News Team, Last updated: 10/08/2020 02:28 PM IST
  • राजस्थान की गहलोत सरकार में बसपा के 6 विधायकों के विलय को लेकर 11 अगस्त को हाईकोर्ट फैसला देगी. हाईकोर्ट में भाजपा विधायक और बसपा की ओर याचिका दायर कर इनके विलय को चुनौती दी गई थी. अगर हाईकोर्ट इन विधायकों के विलय को लेकर गहलोत सरकार के विपक्ष में फैसला देती है तो परेशानी ओर ज्यादा बढ़ जाएगी.
मुख्यमंत्री अशोक गहलोत

राजस्थान में जब कांग्रेस की गहलोत के नेतृत्व में सरकार बनी तो बसपा पार्टी से प्रदेश की 6 विधानसभा सीटों से जीतकर आए विधायकों ने गहलोत सरकार को समर्थन देकर अपना विलय कर दिया था। लेकिन अब बसपा सुप्रीमों मायावती के साथ कोटा के रामगंज मंडी विधायक मदन दिलावर ने राजस्थान हाईकोर्ट की जयपुर खंडपीठ में याचिका दायर कर दल बदल कानून के तहत विलय को गलत ठहराने हुए सदस्यता रद्द करने की माग रखी है.

वहीं बसपा सुप्रीमों ने तो व्हिप जारी कर यह कहा है कि ये 6 विधायक गहलोत सरकार के फ्लोर टेस्ट के दौरान उनके समर्थन में वोट नहीं देंगे. अगर देते है तो इनकों दल बदल कानून के तहत सदस्यता खत्म कर दी जाएगी। इसके बाद लगातार गहलोत बसपा सुप्रीमों मायावती के खिलाफ हमला बोल चुके है.

हालांकि अब कल होने वाली हाईकोर्ट में मामले की सुनवाई पर सबकी नजरे टिकी हैं.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें