जयपुर के जयपुरिया अस्पताल में बेड दिलाने का झांसा देकर ऐंठे 13500 रूपये

Smart News Team, Last updated: Wed, 12th May 2021, 11:07 AM IST
  • जयपुर में एक बार फिर कोविड मरीज को अस्पताल में बेड दिलाने के नाम पर रुपए ऐंठने का मामला सामने आया है. इस मामले में पुलिस ने आरोपी को गिरफ्तार कर लिया है. पुलिस आरोपी से पूछताछ करने में जुटी है.
आरोपी लालचंद जैन उर्फ़ कान्हा 

जयपुर. जयपुर के सरकारी अस्पताल में कोविड मरीज को बेड दिलाने के नाम पर एक बार फिर रुपए लेने का मामला सामने आया है. इस बार मामला जयपुरिया अस्पताल का है. यहां पर ऑक्सीजन बेड दिलाने का झांसा देकर ठगी के मामले में एक आरोपी को बजाज नगर थाना पुलिस ने गिरफ्तार किया है. आरोप है कि उसने एक पीड़ित से ऑक्सीजन बेड दिलाने के नाम पर 13 हजार 500 रुपए ले लिए. इतना ही नहीं उसने पांच हजार रुपए के मास्क व सेनेटाइजर भी ले लिए . इसके बाद भी आरोपी का मन नहीं भरा. ऐसे में उसने अपने शौक पूरे करने के लिए करीब साढ़े तीन हजार रुपए की कीमत की शराब की बोतल की डिमांड कर डाली. पीड़ित ने यह बोतल भी लाकर दी. इसके बाद भी उसने बेड नहीं दिलाया तो पीड़ित थाने पहुंच गया. इसके बाद पुलिस ने आरोपी को गिरफ्तार किया.

 

थाना अधिकारी रमेश सैनी ने बताया कि नागौर की मातासुका स्थित देवली कला निवासी लालचंद जैन उर्फ कान्हा को पकड़ा गया है. मालवीय नगर निवासी देवेंद्र कुमार ने मामला दर्ज करवाया. उसने रिपोर्ट में बताया कि 9 मई को पिता को कोरोना पॉजिटिव होने के बाद वह इलाज के लिए जयपुरिया अस्पताल लेकर आया था. यहां पर लालचंद मिला और उसने खुद को सरकारी कर्मचारी बताया. उसने ऑक्सीजन बेड दिलाने के नाम पर 13 हजार 500 ले लिए. फिर निजी अस्पताल में अच्छा इलाज करवाने का झांसा दे 20 हजार रुपए और मांगे. पीड़ित से पांच हजार रुपए की कीमत के मास्क व सैनिटाइजर ले लिए. फिर एक कीमती शराब की बोतल भी मंगवाई. पुलिस पड़ताल में सामने आया कि आरोपी ट्रांसपोर्ट नगर स्थित एक होटल में कमरा लेकर ठहरा है और एक फाइनेंस कंपनी में काम करता है.

जयपुर में कहीं टूट ना जाए सुरक्षा चक्र, कोवैक्सीन हुई 'नो' वैक्सीन

बता दें की कोरोना महामारी में मरीज के परिजनों से रुपए ऐंठने के कई मामले सामने आए है. इससे पहले सबसे बड़े कोविड डेडीकेटेड अस्पताल आरयूएचएस में मरीज को आईसीयू बेड दिलाने के नाम पर 1 लाख 30 हजार रुपए नर्सिंगकर्मी ने लिए थे. इस मामले में एसीबी ने आरोपी को रंगे हाथ गिरफ्तार भी किया था.

 

 

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें