जयपुर : सार्वजनिक स्थलों पर मास्क नहीं लगाने पर दो लाख से अधिक चालान

Smart News Team, Last updated: 20/08/2020 12:47 PM IST
  • जयपुर :सार्वजनिक स्थलों पर मास्क नहीं तो होगा चालान, गुटखा-तम्बाकू का सेवन करने वाले व्यक्तियों के खिलाफ भी कार्यवाही, 5 लाख से अधिक व्यक्तियों का चालान कर 7 करोड़ 65 लाख रुपए से अधिक का जुर्माना वसूला
प्रतीकात्मक तस्वीर

जयपुर: प्रदेश में वैश्विक महामारी कोरोना वायरस के संक्रमण की रोकथाम के लिए लागू राजस्थान एपिडेमिक अध्यादेश के तहत अब तक 5 लाख से अधिक व्यक्तियों का चालान किया गया.

चालान से लगभग 7 करोड़ 65 लाख रुपए से अधिक का जुर्माना वसूल किया जा चुका हैं.

महानिदेशक पुलिस अपराध एमएल लाठर ने बताया कि सार्वजनिक स्थलों पर मास्क नहीं लगाने पर 2 लाख 5 हजार से अधिक, बिना मास्क पहने लोगों को सामान बेचने पर 11 हजार 712, निर्धारित सुरक्षित फिजिकल दूरी नहीं रखने पर 2 लाख 87 हजार 333 व्यक्तियों के चालान किए गए हैं.

सार्वजनिक स्थलों पर थूकने वाले, शराब का सेवन करने वाले व्यक्तियों एवं सार्वजनिक स्थलों पर गुटखा- तम्बाकू का सेवन करने वाले व्यक्तियों के खिलाफ कार्यवाही की गई हैं. सरकार द्वारा जारी की गई गाइडलाइन का अनुसरण नहीं करने वालों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई की जा रही है. इस दौरान उनका चालान कर शुल्क भी वसूला जा रहा है.

उन्होंने बताया कि निषेधाज्ञा तथा क्वारंटाईन मापदण्डों का उल्लघंन करने पर 3 हजार 600 एफआईआर दर्ज कर अब तक करीब 7 हजार 742 व्यक्तियों को गिरफ्तार किया गया. निषेधाज्ञा व एमवी एक्ट के तहत 8 लाख 20 हजार 28 वाहनों का चालान एवं 1 लाख 61 हजार 673 वाहनों को जब्त किया गया.

साथ ही करीब 14 करोड़ 82 लाख रुपये से अधिक जुर्माना वसूल किया जा चुका है.

लाठर ने बताया कि प्रदेश में 25 हजार 525 व्यक्तियों को सीआरपीसी के प्रावधानों के तहत शांति भंग के आरोप में गिरफ्तार किया गया. सोशल मीडिया के दुरुपयोग के मामले में राजस्थान पुलिस की टीम लगातार नजर बनाए हुए है.

पुलिस ने सोशल मीडिया के दुरुपयोग के मामलों में अब तक 219 मुकदमे दर्ज कर 300 असामाजिक तत्वों के खिलाफ अभियोग दर्ज किया है साथ ही 228 को गिरफ्तार भी किया गया हैं.

जबकि लॉक डाउन के दौरान कालाबाजारी करते पाये गये दुकानदारों के विरुद्ध आवश्यक वस्तु अधिनियम के तहत 143 मुकदमे दर्ज कर कार्रवाई की जा रही है. इसके अलावा 99 को गिरफ्तार किया गया हैं.

 

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें