जयपुर: अब कोरोना वैक्सीन के नाम पर भी हो रही साइबर ठगी

Smart News Team, Last updated: 22/09/2020 11:32 AM IST
  • जयपुर. पहले फ्री में काेविड टेस्ट करवाने, बीपी, ऑक्सीजन लेवल मापने के एप डाउनलाेड करवाने के बहाने ठगी कर रहे थे. अब काेराेना वैक्सीन बेचने के नाम ठगी की तैयारी करने में यह ठग जुट गए हैं. डार्क वेब पर बेची जा रही वैक्सीन की हाेम डिलवरी का दावा किया जा रहा है.
प्रतीकात्मक तस्वीर 

जयपुर| काेराेना वैक्सीन की बिक्री के नाम पर सायबर ठग सक्रिय हो गए हैं. वैश्विक महामारी काेराेना में सायबर ठगी लगातार बढ़ती जा रही है. सायबर ठग काेराेना काल में पहले फ्री में काेविड टेस्ट करवाने, बीपी, ऑक्सीजन लेवल मापने के एप डाउनलाेड करवाने के बहाने ठगी कर रहे थे. अब काेराेना वैक्सीन बेचने के नाम ठगी की तैयारी करने में यह ठग जुट गए हैं.

सायबर ठगी के सबसे बड़े अड्डे डार्क वेब पर इन दिनाें सायबर ठग काेराेना वैक्सीन बेच रहे हैं. सायबर ठग डार्क वेब पर बॉक्सिंग को बेच रहे हैं. काेविड वैक्सीन की डील क्रिप्टाेकरेंसी के रूप में पेमेंट वसूल ठगी कर रही हैं.

डार्कवेब पर काेराेना वैक्सीन बेचने वाले सायबर ठगाें काे दावा है कि चीन ने काेराेना की वैक्सीन बना ली लेकिन दूसरे देशाें काे नहीं बेच रहा है. चाइना की वुहान वायराेलाेजी के वैज्ञानिक भी इस वैक्सीन से जुड़ी काेई जानकारी शेयर नहीं कर रहे. मगर हमने कई देशाें में इसे बेचा है.

सायबर एक्सपर्ट राजशेखर राजहरिया ने बताया कि डार्क वेब पर बेची जा रही वैक्सीन की हाेम डिलवरी का दावा किया जा रहा है. इसके लिए सायबर ठग केवल क्रिप्टाेकरेंसी बिटकाॅइन से ही पेमेंट लेते है. जाे काेई भी इनके चंगुल में फंसकर ऑर्डर करता है ताे पैसे गवां देता है. इसलिए सबसे जरूरी है कि ऐसे किसी झांसे में न आए चूंकि बिटकाइन काे ट्रैस नहीं किया जा सकता. इसलिए ठगी हाेने के बाद ऐसे अपराधियाें का पकड़ना भी मुश्किल है.

 

काेराेना की दवा भी डार्क वेब पर बेची जा रही है. दावा है चीन ने काेराेना की दवा बना ली है. ठग अार्डर करने वाले से निजी जानकारी नाम, जेंडर, उम्र, ईमेल एड्रेस, काेविड टेस्ट पाॅजिटिव, नेगेटिव जैसे ही जानकारी भी ले रहे हैं. जिससे कि वैक्सीन खरीदने वाले को यह मालूम न पड़ सके कि वह ठगी का शिकार होने वाला है. यह ठग बड़ी आसानी से लोगों से मोटी रकम वसूलने की तैयारी में लग गए हैं.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें