जयपुर पुलिस कमिश्नरेट के एसीपी को वकील से उलझना पड़ा महंगा, डीजीपी ने किया APO

Smart News Team, Last updated: Fri, 9th Jul 2021, 1:47 AM IST
  • जयपुर पुलिस कमिश्नरेट के मानसरोवर एसीपी पर संगीन आरोप मुहाना थाना इलाके में शराब के नशे में गश्त कर वकील के साथ मारपीट की घटना को दिया अंजाम.
बुधवार की रात को मुहाना में मानसरोवर के एसीपी ने दो युवकों को फोन पर बात करते हुए देख अपनी गाड़ी रोककर उनके साथ मार पिटाई की. (प्रतिकात्मक फोटो)

जयपुर पुलिस कमिश्नरेट के मानसरोवर के एसीपी पर एक बार फिर से संगीन आरोप लगे हैं. आरोपों से घिरे रहने वाले एसीपी संजीव चौधरी शराब के नशे में सड़क पर वकीलों से उलझ पड़े. बता दें कि बुधवार की रात को मुहाना में मानसरोवर के एसीपी ने दो युवकों को फोन पर बात करते हुए देख अपनी गाड़ी रोककर उनके साथ मार पिटाई की. इतना ही नहीं एसीपी चौघरी ने युवकों को धमकी देकर मुहाना थाने में आने को कहा. हालांकि जब दोनों युवक थाना पहुंचे तो एसीपी कहीं नजर नहीं आए. इसके बाद युवकों ने वहीं थाने में एसीपी के खिलाफ शिकायत दर्ज कराई. 

दोनों युवक ने मुहाना थाने में रिपोर्ट दर्ज कराने के बाद डीजीपी एमएल लाठर को फोन कर पूरी घटना की सूचना दी बाद में उन्होंने कंट्रोल रूम में भी अपनी शिकायत दर्ज करवाई और इस बात-चीत का ऑडियो सोशल मीडिया पर वायरल होने लगा. चूंकि इस मामले में एसीपी शामिल थे इस लिए गंभीरता को समझते हुए डीजीपी एमएल ठाकुर ने एसीपी को एपीओ कर दिया. फिर गुरूवार की शाम को पुलिस मुख्यालय में घटना को लेकर आदेश जारी किया.

Rajasthan: बोर्ड रिजल्ट गड़बड़ी मामले में 2 हजार शिक्षा अधिकारियों को नोटिस जारी

जानें क्या है पूरा मामला

इस पूरे मामला के परिवादी बुधवार को अपने दोस्तों से मिलने के लिए मुहाना रोड गए. रास्ते में परिवादी को एक कॉल आया और वहा अपनी गाड़ी को साइड में खड़ी करके फोन पर बात करने लगा तभी वहां पर एसीपी की गाड़ी रूकी और वह गाड़ी से बाहर निकलकर आए. एसीपी ने तुरंत परिवादी से उनके गाड़ी की चाभी मांगने लगे. लेकिन परिवादी ने जब आरोपी से चाभी मांगने का कारण पूछा तो एसीपी गाली देने लगे. इतना ही नहीं एसीपी ने परिवादी पर हाथ भी उठाया. इस दौरान जब दोनों परिवादी ने बताया कि वह राजस्थान हाईकोर्ट में वकील है तो एसीपी ने उन्हें छोड़ दिया और कहा मुहाना थाने आ जाओं. और यहीं से पूरे मामले ने जोड़ पकड़ा.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें