जयपुर: 'शांतिप्रिय प्रदेश के रूप में प्रसिद्ध राजस्थान अब बन रहा अपराध का अड्डा'

Smart News Team, Last updated: 05/10/2020 11:24 AM IST
  • भाजपा के उप नेता प्रतिपक्ष राजेंद्र राठौड़ ने कहा कि राजस्थान अपराध का अड्डा बनता जा रहा है पहले यह शांतिप्रिय प्रदेश के रूप में प्रसिद्ध हुआ करता था.  राजेंद्र राठौड़ ने रविवार सुबह गहलोत सरकार पर निशाना साधते हुए कहा कि दुष्कर्म, लूट, डकैती, हत्या और आतंक की पहचान बन गया है राजस्थान
भाजपा के उप नेता प्रतिपक्ष राजेंद्र राठौड़

जयपुर। राष्ट्रीय स्तर से लेकर प्रदेश स्तर तक के सभी नेता अब आरोप- प्रत्यारोप में लगे हुए हैं. राजस्थान में भी नेताओं द्वारा बिगड़े बोल बोले जा रहे हैं. भाजपा के उप नेता प्रतिपक्ष राजेंद्र राठौड़ ने भी कांग्रेस पर निशाना साधा है. भाजपा उप नेता प्रतिपक्ष राजेंद्र राठौड़ ने कहा कि राजस्थान पहले शांति प्रदेश के रूप में प्रसिद्ध हुआ करता था लेकिन आज इसकी पहचान धूमिल हो रही है.

अब राजस्थान धीरे- धीरे अपराध का अड्डा बन रहा है. प्रदेश सरकार राजस्थान के कानून व्यवस्था सुधारने में नाकाम रही है. हर तरफ चोरी, बलात्कार व हत्या जैसी घटनाएं हो रही है. राजस्थान अब आतंक की पहचान बन चुका है.

दरअसल भाजपा के उप नेता प्रतिपक्ष राजेंद्र राठौर ने रविवार को ट्विटर के जरिए अपनी भड़ास निकाली. इस दौरान उन्होंने ट्वीट कर कांग्रेस पर निशाना साधा है. उन्होंने ट्वीट करते हुए लिखा कि देश में शांति प्रदेश के रूप में प्रसिद्ध राजस्थान आज अपराध का अड्डा बन रहा है. महिलाओं के साथ दुष्कर्म की घटनाएं हो रही हैं.लूट डकैती और हत्या जैसी घटनाएं आम हो चुकी है जबकि दलित उत्पीड़न और बजरी माफियाओं का आतंक प्रदेश की पहचान बन चुका है. लोग आतंक के साये में जी रहे हैं. राठौड़ ने लिखा कि रेप मामलों में राजस्थान देश में पहले पायदान पर है.

प्रताप नगर इलाके में होटल की सेकेंड मंजिल से युवती कूदी, अस्पताल में भर्ती

एनसीआरबी के नवीनतम आकंड़ों के अनुसार, प्रदेश में वर्ष 2019 में 5997 बलात्कार के केस दर्ज हुए जिसमें 1313 मामलों में मासूम बच्चियों के साथ दरिंदगी की गई. प्रदेश की कांग्रेस सरकार अपराधों पर अंकुश लगाने में पूरी तरह असफल साबित हुई है. दुर्भाग्य है कि राज्य में अपराध का बोलबाला है और कानून व्यवस्था दूर-दूर तक नजर नहीं आ रही है. प्रदेश में लगातार बढ़ रहे बलात्कार के मामले सबसे ज्यादा आ रहे हैं.

ऐसे में महिला सुरक्षा को लेकर सरकार पर सवाल खड़े होना लाजमी है.वही मासूम बच्चियों के साथ भी दरिंदगी के मामले में राजस्थान आगे हैं. ऐसे में महिलाओं और बच्चों के साथ हो रहे दुष्कर्म के मामले चरम पर हैं. सरकार को इन पर अंकुश लगाना चाहिए सरकार कानून व्यवस्था स्थापित करने में फेल नजर आ रही है.

 

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें