जयपुर के टीबी अस्पताल में भी शुरू हुआ कोविड का इलाज,कोरोना मरीजों को मिलेगी राहत

Smart News Team, Last updated: Sat, 15th May 2021, 10:27 AM IST
  • कोरोना महामारी के कारण अस्पतालों में बेड नहीं मिल रहे है. ऐसे में सरकार लगातार सरकारी अस्पतालों में कोरोना के मरीजों के इलाज का प्रयास कर रही है.अब जयपुर के टीबी अस्पताल में कोविड मरीजों का इलाज हो सकेगा.
प्रतिकात्मक तस्वीर 

जयपुर. राजधानी के शास्त्री नगर इलाके में स्थित टीबी अस्पताल में भी अब कोरोना मरीजों का इलाज होगा. कल से ही यहां पर इलाज की व्यवस्था शुरू हो चुकी है. पहले दिन कोविड ओपीडी में 15 मरीज आए, जिनमें से 3 संक्रमितों को भर्ती किया गया है. इससे पहले सवाई मानसिंह मेडिकल कॉलेज के प्राचार्य डॉक्टर सुधीर भंडार के साथ टीबी अस्पताल के अधीक्षक डॉक्टर विनोद जोशी और ईएसआई के अधीक्षक डॉक्टर बनारसी दास की बैठक हुई. डॉ. भंडारी ने आश्वस्त किया कि संस्थान में जो भी समस्याएं हैं, उन्हें जल्द से जल्द दूर किया जाएगा. ऐसा माना जा रहा है कि जल्द ही आॅक्सीजन प्लांट की भी मरम्मत होगी. साथ ही आॅक्सीजन सिलेंडर भी संस्थान को उपलब्ध कराए जाएंगे.

 

बता दें कि राजधानी जयपुर में कोरोना के सबसे ज्यादा मरीज मिल रहे हैं. कल शाम आई रिपोर्ट में भी 2823 नए पॉजिटिव मरीज सामने आए. हालांकि यह आंकड़ा रोजाना से कुछ कम है. लेकिन इसके बावजूद जयपुर के अस्पतालों के हालात बदतर हो चुके हैं. जयपुर के अस्पतालों में आईसीयू और वेंटिलेटर तो दूर ऑक्सीजन बेड तक नहीं मिल रहे हैं. ऐसी स्थिति में मरीज काफी परेशान हो रहे हैं. अब टीवी अस्पताल में 60 बेड का कोविड सेंटर बनने पर मरीजों को काफी राहत मिलने की उम्मीद है. इसका एक कारण यह भी है कि लोग सरकारी अस्पतालों में भर्ती होने का प्रयास कर रहे हैं, क्योंकि प्राइवेट अस्पताल में ऑक्सीजन कम होने पर मरीजों को दूसरी जगह भर्ती करने का दबाव बनाया जाता है. इसलिये लोगों का मानना है कि सरकारी अस्पतालों में मरीज को ऑक्सीजन पूरी मात्रा में मिलती रहेगी. इसलिए सभी सरकारी अस्पतालों में भारी संख्या में मरीज पहुंच रहे हैं.

जयपुर में कोरोना रोकथाम के लिए सरकार करेगी स्पेशल प्लानिंग, सीएम ने दिए निर्देश

टीबी अस्पताल में टीबी, सांस और सि​लकोसिस से ग्रसित मरीजों का पहले से इलाज चल रहा था. इनमें से छह मरीजों को कांवटिया अस्पताल में इलाज के लिए भेज दिया गया है. साथ ही 20 मरीजों को संस्थान में ही दूसरी जगह पर शिफ्ट किया गया है. ये मरीज गंभीर बीमार बताए जा रहे हैं.जानकारी के अनुसार अस्पताल में 60 बेड का एक वार्ड खाली था. उसमें कोरोना संक्रमित मरीजों को भर्ती कर इलाज शुरू किया गया है. संस्थान में 22 चिकित्सक कार्यरत है. इनमें से अधिकांश ईएसआई अस्पताल में ड्यूटी दे रहे हैं. इन चिकित्सकों को अब जिम्मेदारी बांट दी जाएगी. साथ ही ड्यूटी चार्ट् बना दिया गया है. उसी के आधार पर सभी काम होंगे.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें